अपने अंदर के रावण को जलाने की जरूरतः डॉ रश्मि

तलवार भेंट किया गया सम्मानित

गया। अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद एवं ओजस्विनी के संयुक्त बैनर तले मातृ शक्ति की आराधना, डांडिया नृत्य सह शस्त्र पूजन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर परिषद के जिला मंत्री राम कुमार बारिक ने ओजस्विनी की जिलाध्यक्ष डॉ कुमारी रश्मि प्रियदर्शनी को शौर्य का प्रतीक तलवार भेंट कर सम्मानित किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डॉ रश्मि ने दुर्गा पूजा की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि विजयादशमी का पावन उत्सव असत्य पर सत्य, दुर्गुणों पर सद्गुणों, पाशविकता पर मनुष्यता, अज्ञान पर ज्ञान और अधर्म पर धर्म के विजय का प्रतीक है।

इसे भी पढ़े : देवियों को खुश करने के लिए लगा 40 देवी-देवताओं को भोग

नवरात्रि में शक्ति-स्वरूपा माँ दुर्गा की उपासना और आराधना करने के उपरांत प्राप्त शक्तियों और निधियों का आलंब लेकर ही मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम चन्द्र जी अहंकारी और व्यभिचारी लंकाधिपति रावण का संहार कर सके। यह कथा इस अटल सत्य की ओर इंगित करती है कि हर नर को, चाहे वह स्वयं कितना भी ज्ञानवान ,गुणवान, शक्तिशाली और प्रतिभाशाली क्यों न हो, जीवन में सफलता-प्राप्ति हेतु , किसी ना किसी रूप में नारी-शक्ति का सहयोग लेना ही पड़ता है।

यह हमारे समाज की विडंबना है कि वह माता दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती, सीता, सावित्री आदि की कथाओं को याद रख उनकी प्रतिमाओं तक के प्रति इतना श्रद्धा भाव समर्पित करता है, किंतु घर और समाज में मौजूद हाड़-माँस की बनी जीवित मातृशक्तियों के तप, त्याग और उपकारों को भूलकर उनपर तरह -तरह के अत्याचार ढाता रहता है। यदि समाज में वास्तव में खुशहाली चाहिए तो नारी-शक्ति के अस्तित्व का सम्मान करते हुए उनके प्रति होने वाले जुल्म-सितम की हृदय-विदारक कहानी को समाप्त करना होगा अन्यथा इस समाज को विनाश से कोई नहीं बचा सकता। जिस भी समाज में नारी को शक्ति के रूप में न देख कर एक वस्तु के रूप में देखा जाता है, वह समाज हमेशा पतनगामी होता है।

इसे भी पढ़े : आईपीएल मैच पर लगा रहा था सट्टा, मोबाइल और नगद जप्त

विजयादशमी पर उन्होंने महत्वपूर्ण संदेश देते हुए कहा कि रावण का पुतला दहन से रावण जलेगा।जब तक अपने अंदर फैले रावण के अहंकारो का विनाश नहीं होगा तब तक राम के चरित्र का अनुसरण नहीं किया जा सकता। विजयादशमी पर हमे संकल्प लेना चाहिए की बुराई की राह को छोड़कर अच्छाई की राह पर चले।

Leave a Reply

%d bloggers like this: