RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

बिजली पारेषण महासंघ की संभागीय कार्यकारिणी का गठन

– नव नियुक्त पदाधिकारी।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

शाजापुर। बिजली पारेषण कर्मचारी महासंघ की संभागीय कार्यकारिणी का गठन किया गया। कार्यक्रम में अतिथि के रूप में मध्यप्रदेश बिजली कर्मचारी महासंघ के महामंत्री सुशीलकुमार पांडे, पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी महासंघ कार्यकारी अध्यक्ष एवं राष्ट्रीय मंत्री आनंदकुमार शिंदे, कंपनी प्रभारी एवं विधि सलाहकार मनोहर पाटीदार, पश्चिम क्षेत्र के महामंत्री अशोक राठौर, भारतीय मजदूर संघ के जिला मंत्री हरीश ठोमरे मौजूद रहे।

कार्यक्रम के दौरान महासंघ के प्रदेश महामंत्री सूरजसिंह गुर्जर द्वारा देवास और शुजालपुर की संभागीय कार्यकारिणी का गठन किया गया, जिसमें विधि सलाहकार गिरीश जोशी, अध्यक्ष नरेंद्र सोनी, सचिव पीडी बैरागी, संभाग के कोषाध्यक्ष का दायित्व मनोज जायसवाल को दिया गया। कार्यकारिणी के गठन पश्चात, पश्चिम क्षेत्र बिजली कर्मचारी महासंघ के चंद्रशेखर दावरे, महेंद्रसिंह सिसोदिया, राजू जेजूरिकर, गोपाल यादव, संभागीय सचिव राहुल, आशुतोष सोलंकी, मनीष मगरो, संतोष राव नेहे, मनीष शास्त्री, राजेंद्र मालवीय, महेंद्रसिंह सिसोदिया, संदीप गोस्वामी शाजापुर दुपाड़ा रोड स्थित सभागृह में एकत्रित हुए

और यहां नवागत पदाधिकारियों का स्वागत सत्कार किया। इस मौके पर सुशील पांडे ने कहा कि बिजली कर्मचारी महासंघ कर्मचारियों के साथ हमेशा उनकी समस्याओं के निराकरण हेतु तत्पर रहेगा। बाहृय स्रौत के जितने भी कर्मचारी एवं पदाधिकारी हैं वह पूर्ण निष्ठा ईमानदारी से अपना कार्य करें, महासंघ सदैव उनके हितों की लड़ाई लड़ता रहेगा। उन्होने कहा कि सभी एकजुट रहें और भारतीय मजदूर संघ के नेतृत्व में बिजली कर्मचारी महासंघ के साथ जुड़े रहें ताकि समस्याओं के समाधान हेतु वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ प्रदेश स्तर पर चर्चा की जा सके।

Leave a Reply

%d bloggers like this: