रॉकेट की तेजी से चढ़ा बाजार तो CJI ने सेबी-सैट को किया आगाह



CJI: घरेलू शेयर बाजार के दोनों सूचकांक सेंसेक्स-निफ्टी में जोरदार तेजी के बीच भारत के प्रधान न्यायाधीश (CJI) डीवाई चंद्रचूड़ ने भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (SEBI) और प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण (SAT) को आगाह किया है. उन्होंने इन दोनों विनियामकीय संस्थानों से कहा है कि बाजार में तेजी के बीच संतुलन और धैर्य बनाए रखना जरूरी है.

जीत के बीच हर कोई अपना संतुलन और धैर्य बनाए रखें: CJI

सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि बीएसई के 80,000 अंक के आंकड़े को पार करने वाला क्षण बेहद आश्चर्यजनक और उल्लास भरा क्षण है. इस तरह की घटनाएं नियामकीय प्राधिकरणों को यह तय करने की आवश्यकता पर जोर देती है कि जीत के बीच हर कोई अपना संतुलन और धैर्य बनाए रखे. सीजेआई ने बाजार विनियामक सेबी और सैट को शेयर बाजारों में ऑल-टाइम हाई उछाल के बीच सावधानी बरतने की सलाह दी है.

बीएसई सेंसेक्स 80,000 के पार

सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ ने मुंबई में प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण (सैट) के नए कैंपस का उद्घाटन करते हुए अधिकारियों से सैट की नई पीठें खोलने पर विचार करने का आग्रह किया है. उन्होंने इसके पीछे अधिक मात्रा में लेन-देन तथा नए नियमों के कारण कार्यभार बढ़ने को अहम कारण बताया है. बीएसई के 80,000 अंक का आंकड़ा पार करने को उल्लास से भरा क्षण बताने वाली खबरों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इस तरह की घटनाएं नियामक प्राधिकरणों के लिए यह तय करने की जरूरत पर जोर देती हैं कि जीत के बीच हर कोई अपना संतुलन और धैर्य बनाए रखे.

Advertisment 
--------------------------------------------------------------------------
क्या आप भी फोन कॉल पर ऑर्डर लेते हुए थक चुके हैं? अपने व्यापार को मैन्युअली संभालते हुए थक चुके हैं? आज के महंगाई भरे समय में आपको सस्ता स्टाफ और हेल्पर नहीं मिल रहा है। तो चिंता किस बात की?

अब आपके लिए आया है एक ऐसा समाधान जो आपके व्यापार को आसान बना सकता है।

समाधान:
अब आपके साथ एस डी एड्स एजेंसी जुडी है, जहाँ आप नवीनतम तकनीक के साथ एक साथ में काम कर सकते हैं। जैसे कि ऑनलाइन ऑर्डर प्राप्त करना, ऑनलाइन भुगतान प्राप्त करना, ऑनलाइन बिल जनरेट करना, ऑनलाइन लेबल जनरेट करना, ऑनलाइन इन्वेंट्री प्रबंधन करना, ऑनलाइन सीधे आपके नए आगमनों को सोशल मीडिया पर ऑटो पोस्ट करना, ऑनलाइन ही आपकी पूरी ब्रांडिंग करना। आपके स्टोर को ऑनलाइन करने से आपके गैर मौजूदगी के समय में भी लोग आपको आर्डर कर पाएंगे। आपका व्यापार आपके सोते समय भी रॉकेट की तरह दौड़ेगा। गूगल पर ब्रांडिंग मिलेगी, सोशल मीडिया पर ब्रांडिंग मिलेगी, और भी बहुत सारे फायदे मिलेंगे आपको! 🚀

ई-कॉमर्स प्लान:
मूल्य: 40,000 रुपये
50% छूट: 20,000 रुपये
ईएमआई भी उपलब्ध है
डाउन पेमेंट: 5,000 रुपये
10 ईएमआई में 1,500 रुपये
साथ ही विशेष गिफ्ट कूपन

अब आज ही बुकिंग कीजिए और न्यूज़ पोर्टल्स में विज्ञापन प्लेस करने के लिए आपको 10,000 रुपये का पूरा गिफ्ट कूपन दिया जा रहा है! इसे साल भर में हर महीने 10,000 रुपये के विज्ञापन की बुकिंग के लिए 10 महीने तक उपयोग कर सकते हैं।

अब तकनीकी की मदद से अपने व्यापार को नई ऊँचाइयों तक ले जाइए और अपने व्यापार को बढ़ावा दें! 🌐
अभी संपर्क करें - 📲8109913008 कॉल / व्हाट्सप्प और कॉल ☎️ 03369029420


 

बाजार की तेजी में सेबी सैट की बढ़ जाती हैं भूमिकाएं

सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ ने आगे कहा कि आप शेयर बाजार में जितनी अधिक तेजी देखेंगे? मेरा मानना ​​है कि बाजार की तेजी के बीच सेबी तथा सैट की भूमिका उतनी ही अधिक होगी. ये संस्थान सतर्कता बरतेंगे और सफलताओं का जश्न मनाएंगे, लेकिन यह भी सुनिश्चित करेंगे कि इसकी नींव स्थिर रहे. उन्होंने कहा कि सेबी और सैट जैसे अपीलीय मंच के स्थिर तथा पूर्वानुमानित निवेश वातावरण को बढ़ावा देने के पीछे उनका अत्यधिक राष्ट्रीय महत्व हैं.

ये भी पढ़ें: Mazagon Dock के शेयर ने फाड़ दिया बाजार, मार्केट कैप 1 लाख करोड़ के पार, रिटर्न 115%

वित्तीय क्षेत्र में वक्त पर कार्रवाई और त्रुटियों को सुधारना बेहद जरूरी

सैट के पीठासीन अधिकारी न्यायमूर्ति पी.एस दिनेश कुमार ने कहा कि सैट में 1,028 अपीलें लंबित हैं. 1997 में अपनी स्थापना के बाद से इसने 6,700 से अधिक अपीलों का निपटारा किया है. सीजेआई चंद्रचूड़ ने कहा कि वित्तीय क्षेत्र में समय पर कार्रवाई और त्रुटियों को सुधारना बेहद महत्वपूर्ण है. सीजेआई ने गुरुवार को सैट की नई वेबसाइट की शुरुआत भी की है. इसे राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र की ओर से तैयार किया गया है.

ये भी पढ़ें: HDFC Bank Credit Card से ट्रांजेक्शन पर 1 अगस्त से लगेगा चार्ज, देखें पूरी लिस्ट



Source link


Discover more from सच्चा दोस्त न्यूज़

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours

Leave a Reply