KKR के स्पिनर वरुण चक्रवर्ती 1 मई को कोरोना संक्रमित पाए गए थे. लेकिन अब पूरी तरह ठीक हैं. (Varun Chakravarthy Twitter)

Live Radio


KKR के स्पिनर वरुण चक्रवर्ती 1 मई को कोरोना संक्रमित पाए गए थे. लेकिन अब पूरी तरह ठीक हैं. (Varun Chakravarthy Twitter)

चेन्नई सुपर किंग्स के बॉलिंग कोच लक्ष्मीपति बालाजी( L Balaji) और कोलकाता नाइट राइडर्स के स्पिनर वरुण चक्रवर्ती (Varun Chakravarthy) कोरोना से पूरी तरह उबर चुके हैं. इन दोनों ने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि कोरोनावायरस से संक्रमित होना डराने वाला था. लेकिन सही इलाज और साथी खिलाड़ियों की हौसलाअफजाई के कारण हम ये लड़ाई जीत सके.

नई दिल्ली. कोरोना की दूसरी लहर के असर से आईपीएल 2021 भी अछूता नहीं रहा. चार टीमों के खिलाड़ियों, सपोर्ट स्टाफ के सदस्यों के संक्रमित आने के बाद बीते 4 मई को लीग को स्थगित करना पड़ा. आईपीएल में शामिल जिन लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. इसमें चेन्नई सुपर किंग्स के बॉलिंग कोच लक्ष्मीपति बालाजी और कोलकाता नाइट राइडर्स के स्पिनर वरुण चक्रवर्ती शामिल हैं. अब ये दोनों कोरोना को हरा चुके हैं और फिलहाल घर पर आराम कर रहे हैं. इस दौरान दोनों ने कोरोनावायरस से उबरने की अपनी लड़ाई के अनुभव साझा किए. दोनों के लिए कोरोना से उबरने का अनुभव Man vs Wild का एक एपिसोड करने जैसा रहा. लक्ष्मीपति बालाजी की कोरोना रिपोर्ट 2 मई को पॉजिटिव आई थी और वो 14 मई को इसे उबर गए. लेकिन 12 दिन उनके लिए काफी मुश्किल भरे रहे. उन्होंने ईएसपीएन क्रिकइंफो से बातचीत में कहा कि संक्रमित होने के बाद में आइसोलेशन में था. थोड़ा चिंतित था. इसी दौरान मेरे मन में एक विचार आया कि कोविड-19 से शारीरिक और मानसिक दोनों रूप में उबरना Man vs Wild का एक एपिसोड करने जैसा रहा. कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर मैं घबरा गया था: बालाजी बालाजी ने बताया कि 2 मई को मुझे थोड़ी बेचैनी महसूस हो रही थी. मुझे शरीर में दर्द था और नाक में हल्की रुकावट थी. उसी दिन दोपहर में मेरा कोरोना टेस्ट हुआ और अगले ही दिन मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई. मैं घबरा गया. मैंने अपनी और बायो-बबल की सुरक्षा को खतरे में डालने के लिए तय प्रोटोकॉल का उल्लंघन नहीं किया था. इसके बाद भी मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई. मेरे साथ सीएसके सीईओ काशी विश्ननाथन और सपोर्ट स्टाफ के एक सदस्य भी कोरोना संक्रमित पाया गया था. ये देखने के लिए रिपोर्ट फाल्स निगेटिव है. हमारा अगले दिन फिर टेस्ट हुआ. लेकिन दूसरी बार भी मेरी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई. इसके बाद मुझे होटल के दूसरे फ्लोर पर शिफ्ट कर दिया गया.जब बालाजी से ये पूछा गया कि क्या वो कोरोना पॉजिटिव आने के बाद डरे हुए थे. इसके जवाब में उन्होंने कहा कि शुरू में तो मुझे कुछ समझ नहीं आया. लेकिन आइसोलेशन के दूसरे दिन मुझे लगा कि खुद भी अपने सेहत पर नजर रखनी चाहिए. मैंने अपने हेल्थ डेटा को रिकॉर्ड करना शुरू किया. मुझे उन लोगों के लिए भी डर लग रहा था, जो बीते दिनों मेरे संपर्क में आए थे. इसमें चेतेश्वर पुजारा, दीपक चाहर, रॉबिन उथप्पा शामिल थे. बाद में मुझे टीम के असिस्टेंट कोच माइकल हसी के भी संक्रमित होने की जानकारी मिली. दिल्ली के बिगड़े हालात देखते हुए टीम मैनेजमेंट ने एयर एंबुलेंस के जरिए मुझे और हसी को 6 मई को चेन्नई भेज दिया. यहां हमें चौबीसों घंटे हमारी सेहत पर निगरानी रखी गई और 12 दिन अस्पताल में बिताने के बाद 14 मई को मैं घर लौटा. वरुण चक्रवर्ती को अभी भी थकान महसूस हो रही बालाजी की तरह केकेआर के स्पिनर वरुण चक्रवर्ती भी कोरोना संक्रमित हुए थे. लेकिन वो भी अब पूरी तरह इस वायरस से उबर चुके हैं. उन्होंने कोविड-19 से लड़ाई में अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि मैं कोरोना से ठीक तो हो चुका हूं. लेकिन अभी भी मुझे कमजोरी महसूस हो रही है.मैं अभी घर पर ही हूं और अब तक ट्रेनिंग नहीं शुरू कर पाया हूं.
यह भी पढ़ें:टेस्ट डेब्यू करने के बाद इंजीनियर बनने चले गए थे ईरापल्ली प्रसन्ना, 5 साल रहे क्रिकेट से दूर एक कमरे में रहना बहुत मुश्किल ऱहा: वरुण चक्रवर्ती उन्होंने अपने कोरोना संक्रमित होने के बारे में बताया कि 1 मई को मुझे थोड़ी थकान महसूस हुई. मुझे हल्का बुखार भी था. आनन-फानन में मेरा आरटी-पीसीआर टेस्ट हुआ. रिपोर्ट आने से पहले ही मुझे क्वारेंटाइन कर दिया गया. अगले दिन मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई. मैं घबरा गया. मेरे लिए आइसोलेशन में रहना आसान नहीं था. ऐसे में अपना मूड ठीक रखने के लिए नेटफ्लिक्स और अमेजॉन पर वेब सीरीज देखने लगा. बीच-बीच में रिश्तेदारों से वीडियो कॉल पर बात भी करता था. इस बीच खाना, दवाई और बाकी जरूरी चीजों का भी ध्यान रखता था. टीम के साथ शाहरुख खान ने भी हर खिलाड़ी से बात कर उनका हौसला बढ़ाया था. महिला क्रिकेट कोच विवाद और गहराया, वी रमन को हटाने पर नाराज हुए सौरव गांगुली ‘एथलीट्स कोरोना से उबरने के बाद फौरन ट्रेनिंग न करें’ वरुण ने कहा कि मैंने कोविड-19 से उबरने के दौरान जो सीखा वो दूसरे लोगों और एथलीट्स के साथ भी शेयर करना चाहता हूं. खासतौर पर एथलीट्स को मेरी सलाह है कि कोरोना से ठीक होने के बाद कम से कम दो हफ्तों तक अपने शरीर को पूरा आराम दें और किसी तरह की ट्रेनिंग न करें. वहीं, नेगेटिव आने के बाद भी मास्क पहनना जारी रखें. मुझे एहसास हुआ कि मैं इस कठिन समय में अच्छा इलाज पाने के लिए कितना भाग्यशाली रहा हूं. मैं हर चीज के लिए आभारी हूं और प्रार्थना करता हूं कि सभी लोग ठीक हो जाएं और अपने परिवारों में वापस आ जाएं.







Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

COVID-19 Tracker