Live Radio


ग्रेटर नोएडा
यूपी में नोएडा-ग्रेनो से गुजरने वाली बुलेट ट्रेन परियोजना बुधवार को एक कदम और आगे बढ़ गई। दिल्ली से वाराणसी के बीच चलने वाली बुलेट ट्रेन के लिए एलिवेटेड ट्रैक यमुना एक्सप्रेस-वे के समानांतर बिछेगा। हालांकि, यह तय तो पहले हो चुका था कि लेकिन इसकी सैद्धांतिक सहमति बुधवार को नियाल और रेलवे अधिकारियों के बीच हुई बैठक में बन गई।

एक लाख 21 हजार करोड़ रुपये की इस परियोजना का तीन चरणों में काम पूरा किया जाएगा। दिल्ली और नोएडा एयरपोर्ट के बीच पहले चरण के तहत काम अगस्त अंत से प्रारंभ होने की उम्मीद है। इसके लिए यमुना अथॉरिटी मुफ्त में जमीन देगी। नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट के लिए शेयर होल्डिंग एग्रीमेंट और लीज लीड फाइनल होने के बाद नींव रखने की तारीख तय होनी बाकी है।यह होगा बुलेट ट्रेन का रूट!
यह तारीख तय होने से पहले इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट तक विमान यात्रियों को किस प्रकार लाया जाए? इसको लेकर कई विकल्प देखें जा रहे हैं। नोएडा इंटनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड को दिल्ली से नोएडा एयरपोर्ट के बीच बुलेट ट्रेन चलाने के लिए ड्राफ्ट रिपोर्ट सौंपी जा चुकी है।

दिल्ली से वाराणसी के बीच 816 किमी रूट पर चलने वाली बुलेट ट्रेन का उपयोग किस तरह किया जाए, इसको लेकर घंटे तक चर्चा होती रही। दिल्ली के सराय काले खां, नोएडा सेक्टर-148 के बाद नोएडा एयरपोर्ट आने के बाद बुलेट ट्रेन मथुरा, आगरा, इटावा, लखनऊ, रायबरेली, प्रयागराज होते हुए वाराणसी तक का सफर तय करेगी।

पहला चरण 2024-25 तक जमीन पर
यीडा के ओएसडी शैलेंद्र भाटिया ने बताया कि बुलेट ट्रेन के लिए यमुना एक्सप्रेस के सामांतर एलिवेटेड ट्रैक बिछाने के लिए यमुना प्राधिकरण ने अपनी सहमति दे दी है। दिल्ली से निकलकर गौतमबुद्ध नगर, मथुरा और आगरा से गुजर रहे यमुना एक्सप्रेसवे के सामांतर ही बुलेट ट्रेन एलिवेटेड ट्रैक पर चलेगी। एलिवेटेट ट्रैक बिछाने के लिए अगस्त से काम प्रारंभ होने की उम्मीद जताई गई है। बुलेट ट्रेन का पहला चरण 2024-25 तक पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया है। दिल्ली से नोएडा एयरपोर्ट से सफर करने वाले दिल्ली, नोएडा व आसपास के यात्रियों को बुलेट ट्रेन की सौगात 2024 तक दे देने के इरादे से इस काम को युद्धस्तर पर करने का फैसला लिया गया है।

एक बार में 800 यात्री कर सकेंगे सफर

दिल्ली के सरायकाले खां से नोएडा एयरपोर्ट के बीच बुलेट ट्रेन के दो ठहराव ही बनाने के साथ जापान की सिंकनसेन ई 5 सीरीज की बुलेट ट्रेन दौड़ाने पर चर्चा हुई। सरायकाले खां से नोएडा सेक्टर-148 होते हुए एयरपोर्ट तक 62.5 की दूरी 21 मिनट में यह बुलेट ट्रेन तय कर लेगी।1250 यात्रियों की क्षमता बनाने की तैयारी
बुलेट ट्रेन में 800 पैसेंजर एक साथ सफर कर सकते हैं। अधिकारियों ने बताया कि बुलेट ट्रेन की क्षमता 800 से बढ़ाकर 1250 यात्रियों तक किया जा सकता है। बुलेट ट्रेन की पटरी बिछाने के लिए दिल्ली के सरायकाले खां से नोएडा एयरपोर्ट तक एलिविटेड ट्रैक बिछाने पर भी सहमति बनी है।

यमुना अथॉरिटी मुफ्त में देगी जमीन
यमुना एक्सप्रेसवे अथॉरिटी गौतमबुद्ध नगर, मथुरा और आगरा जिले में बुलेट ट्रेन के एलिवेटेड ट्रैक के लिए मुफ्त में जमीन देगी। नोएडा एयरपोर्ट पर आने वाले दुनियाभर के यात्रियों को देश की राजधानी दिल्ली के साथ प्रदेश के प्रमुख तीन तीर्थस्थलों पर आने जाने की सुविधा देने के लिए यह फैसला किया है। मथुरा, आगरा और प्रयागराज होते हुए वाराणसी तक परियोजना को जल्द पटरी पर लाने के लिए यीडा ने यह निर्णय लिया है।

प्रॉजेक्ट पर एक नजर

पहला चरण दिल्ली से आगरा तक- 195 किमी
लक्ष्य 2024-25

दूसरा चरण आगरा से लखनऊ तक- 316 किमी
लक्ष्य 2026-27

तीसरा चरण लखनऊ से वाराणसी- 305 किमी
लक्ष्य 2027-29



Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

COVID-19 Tracker