Live Radio


विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम इंडिया इंग्लैंड के खिलाफ अगस्त-सितंबर में 5 टेस्ट की सीरीज खेलेगी. (PTI)

इंग्लैंड के पूर्व स्पिनर मोंटी पनेसर (Monty Panesar) ने भविष्यवाणी की है कि टीम इंडिया अगस्त-सितंबर में इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली 5 टेस्ट की सीरीज को क्लीन स्वीप कर सकती है. भारत-इंग्लैंड के बीच सीरीज का पहला टेस्ट 4 अगस्त से नॉटिंघम में खेला जाएगा, जबकि आखिरी मुकाबला 10 सितंबर से मैनचेस्टर में होगा.

नई दिल्ली. इंग्लैंड के पूर्व स्पिनर मोंटी पनेसर (Monty Panesar) का मानना है कि टीम इंडिया इस वक्त सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट खेल रही है. भारतीय टीम अगर मौजूदा फॉर्म बरकरार रखने में सफल रहती है, तो उसे 14 साल बाद इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज जीतने से कोई नहीं रोक सकता. पनेसर यहीं नहीं रूके, भारतीय टीम जिस तरह खेल रही है, उसे देखते हुए उन्हें लगता है कि वो इंग्लैंड को पांच टेस्ट की सीरीज में क्लीन स्वीप भी कर सकती है. भारतीय टीम 2 जून को इंग्लैंड दौरे के लिए रवाना होगी. इस टूर के पहले चरण में टीम इंडिया 18 से 22 जून तक न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप का फाइनल खेलेगी, तो वहीं दूसरे चरण में इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट की सीरीज खेली जाएगी. इसकी शुरुआत 4 अगस्त को नॉटिंघम से होगी. जबकि आखिरी टेस्ट 10 सितंबर से मैनचेस्टर में खेला जाएगा. भारतीय टीम इस वक्त अपने शिखर पर: पनेसर पनेसर ने इंडिया टीवी से बातचीत में कहा कि टीम इंडिया सही वक्त पर इंग्लैंड का दौरा कर रही है. जब वो अगस्त में इंग्लैंड से टेस्ट सीरीज खेल रही होगी, तब वहां का मौसम गर्म होगा. ऐसे में वो भारतीय टीम प्लेइंग-11 में दो स्पिनर के साथ उतर सकती है. उन्होंने आगे कहा कि मौजूदा भारतीय टीम में वो बात है कि ये इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज क्लीन स्वीप कर सकती है. एलिस्टर कुक के संन्यास के बाद इंग्लैंड का टॉप ऑर्डर उतना भरोसेमंद नहीं दिखा है. अगर टीम इंडिया क्लीन स्वीप करने में सफल होती तो ये उसकी विदेश में सबसे बड़ी सीरीज जीत होगी.‘इंग्लैंड में भारतीय स्पिनर्स हो सकते हैं कामयाब’ इसके अलावा पनेसर ने अपने ट्विटर अकाउंट पर भारत-इंग्लैंड की सीरीज को लेकर फैंस द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब दिया. उन्होंने कहा कि अगर इंग्लैंड में विकेट से स्पिन गेंदबाजों को मदद मिली,तो फिर सीरीज का नतीजा भारत के हक में होगा और बहुत मुमकिन है कि भारत पांचों टेस्ट जीते. यह भी पढ़ें : वेस्टइंडीज के युवा बल्लेबाज के मुरीद हुए कायरन पोलार्ड, बताया भविष्य का कप्तान
ऋद्धिमान साहा का बड़ा बयान, कहा- एमएस धोनी के रहते हुए नहीं मिले ज्‍यादा मौके इंग्लैंड की बल्लेबाजी कमजोर पनेसर की इस भविष्यवाणी के पीछे एक कारण इंग्लिश बल्लेबाजी में गहराई की कमी है. वो पहले भी इस बात को कह चुके हैं. इंग्लैंड टीम में डॉम सिबली, जैक क्राउली और रोरी बर्न्स जैसे बल्लेबाज हैं. इन्होंने इक्का-दुक्का मौके पर तो अच्छी पारी खेली है. लेकिन इनमें से कोई भी इंग्लैंड की प्लेइंग-11 में स्थायी तौर पर अपनी जगह पक्की नहीं कर पाया है. ऐसे में भारत के खिलाफ सीरीज से पहले ये इंग्लैंड की परेशानी बढ़ाने वाली बात है.







Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

COVID-19 Tracker