मंत्री राजेन्द्रपाल गौतम दक्षिणी जिले के कस्तूरबा निकेतन परिसर स्थित चाइल्ड केयर इंस्टीट्यूट निरीक्षण करने पहुंचे.

Live Radio


नई दिल्ली. दिल्ली में कोरोना (Corona) संक्रमण की रोकथाम के लिए लॉकडाउन लागू है. ऐसे में दिल्ली सरकार (Delhi Government) के महिला एवं बाल विकास मंत्री आजकल चाइल्ड केयर होम्स का लगातार निरीक्षण कर रहे हैं. साथ ही बच्चों को चाइल्ड केयर होम में दी जाने वाली सुविधाओं का बारीकी से निरीक्षण कर रहे हैं. मंत्री गौतम दक्षिणी जिले के कस्तूरबा निकेतन परिसर स्थित चाइल्ड केयर इंस्टीट्यूट निरीक्षण करने पहुंचे. इस दौरान कस्तूरबा नगर से आम आदमी पार्टी के विधायक मदनलाल भी मौजूद रहे. कैबिनेट मंत्री ने पूरे परिसर का निरीक्षण कर साफ-सफाई और रख-रखाव का जायजा लिया. उन्होंने वहां मौजूद बच्चों से बातचीत की और उन्हें दी जा रही सुविधाओं की जानकारी भी ली. उन्होंने बच्चों से कहा कि अगर उन्हें किसी प्रकार की कोई असुविधा या परेशानी हो रही है तो, वह खुल कर बताएं, ताकि उसे दुरूस्त किया जा सके और संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई की जा सके.कैबिनेट मंत्री ने दौरे के दौरान मौजूद अधिकारियों और अधीक्षक को स्पष्ट निर्देश दिए कि पूरे परिसर में रख रखाव आदि से संबंधित सभी तरह कमियों को तुरंत दुरुस्त किया जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि यहां बच्चों को घर जैसा माहौल मिले. बच्चों में कुपोषण की समस्या के मद्देनजर कैबिनेट मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने कहा कि बच्चों के भोजन में संतुलित पौष्टिक आहार का विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए, ताकि उनके अंदर पोषक तत्वों की कमी न होने पाए. इस दौरान अधीक्षक ने अवगत किया कि बच्चों को हफ्ते के सातों दिन तय मानकों के अनुसार उच्च गुणवत्ता युक्त खाना समय पर दिया जाता है. उनके खाने में ब्रेड मक्खन, पराठा, आमलेट, पोहा, चाय, मैक्रोनी, आलू-पूरी नाश्ते में दी जाती हैं, जबकि दोपहर के भोजन में पनीर, काले चने, चावल, चपाती, आलू भुजिया, चना दाल, सलाद, सोयाबीन, भिंडी और अन्य हरी सब्जियां दी जाती हैं. इसी तरह, शाम के समय भी बच्चों को पोषक तत्वों से भरा नाश्ता और रात को उन्हें एक संपूर्ण संतुलित आहार दिया जाता है.
निरीक्षण के बाद महिला एवं बाल विकास मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने अधिकारियों को बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने पूरे परिसर को उम्दा तरीके से व्यवस्थित कर रखा है और बच्चों को दी जाने वाली सुविधाओं में कोई कोताही नहीं बरती जा रही. हालांकि उन्होंने कुछ प्रशासनिक व्यवस्थाओं को और बेहतर करने के अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए और तय समय सीमा में रिपोर्ट देने के लिए कहा है. राजेंद्र पाल गौतम ने विशेष बल देते हुए कहा कि बच्चों को यहां घर जैसा माहौल मिलना चाहिए और उन्हें हम वैसा ही खाना खिलाए जैसा कि हम घर में खुद और अपने बच्चों को खिलाना चाहते हैं. मंत्री गौतम ने कहा कि बच्चों के शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ उनके मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान रखना भी दिल्ली सरकार की जिम्मेदारी है. इसके अलावा, मंत्री राजेंद्र पाल गौतम दक्षिण दिल्ली स्थित महिला एवं बाल विकास विभाग और समाज कल्याण विभाग के दफ्तर भी पहुंचे, जहां उन्होंने पूरे कार्यालय का निरीक्षण किया. हालांकि लॉकडाउन के कारण इन दफ्तरों में अभी जनता का आवागमन नहीं है. लेकिन फिर भी समाज कल्याण मंत्री ने अधिकारियों को हर प्रकार की छोटी-बड़ी अनियमितताओं को दूर करने के कड़े निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि तय ड्यूटी के हिसाब से सभी अधिकारियों-कर्मचारियों को दफ्तर आना होगा और इस लॉकडाउन के दौरान अपने लंबित सभी कामों और अन्य रखरखाव के काम निपटा दिया जाए.



Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

COVID-19 Tracker