भारत में कोरोना से ज्‍यादा खतरनाक ब्‍लैक फंगस होता जा रहा है.

Live Radio


भारत में कोरोना से ज्‍यादा खतरनाक ब्‍लैक फंगस होता जा रहा है.

कोरोना (Corona) के मामले पिछले कुछ दिनों में थोड़े कम जरूर हुए हैं लेकिन खतरा अभी भी कम नहीं हुआ है. पिछले 24 घंटे में देश में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के 2,76,070 नए मामले सामने आए हैं जबकि 3874 मरीजों को अपनी जान गंवानी पड़ी है.

Coronavirus Cases in India: देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर (Second Wave) ने कोहराम मचा रखा है. हर दिन कोरोना के बढ़ते मामले चिंता बढ़ा रहे हैं. कोरोना (Corona) से प्रभावित देशों में अमेरिका (America) के बाद भारत (India) दूसरे नंबर पर आ चुका है. हालांकि कोरोना के मामले पिछले कुछ दिनों में थोड़े कम जरूर हुए हैं लेकिन खतरा अभी भी कम नहीं हुआ है. पिछले 24 घंटे में देश में कोरोना के 2,76,070 नए मामले सामने आए हैं जबकि 3874 मरीजों को अपनी जान गंवानी पड़ी है. देश के लिए राहत की बात ये है कि कोरोना से संक्रमित मरीजों का रिकवरी रेट अब काफी बढ़ गया है. आंकड़ों के मुताबिक पिछले एक दिन में कोरोना से 3,69,077 मरीज ठीक हुए हैं. बता दें कि देश में कोरोना से मृत्यु दर 1.11 फीसदी है, जबकि रिकवरी रेट 86% से ज्यादा है. इस समय भारत में कोरोना से ज्‍यादा खतरनाक ब्‍लैक फंगस होता जा रहा है. कोरोना से ठीक हो चुके मरीजों में ब्‍लैक फंगस का हमला उन्‍हें मौत के कगार तक ले जा रहा है. आइए जानते हैं ब्‍लैक फंगस से राज्‍यों की क्‍या है स्थिति :- 

महाराष्ट्र – कोरोना महामारी के बीच ब्‍लैक फंगस ने मरीजों की दिक्‍कत और बढ़ा दी है. महाराष्‍ट्र में ब्‍लैक फंगस की चपेट में आने से अब तक 90 लोगों की मौत हो चुकी है. महाराष्‍ट्र के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि राज्‍य में ब्‍लैक फंगस से स्थिति काफी गंभीर होती जा रही है. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार को इसके इलाज के लिए केंद्र से अधिक मात्रा में दवाओं की जरूरत है.
राजस्थान- राजस्थान सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण से ठीक होने वाले मरीजों में सामने आ रहे है म्यूकर माइकोसिस (ब्लैक फंगस) को महामारी घोषित कर दिया. राजस्थान में करीब 100 मरीज ब्लैक फंगस से प्रभावित हैं. इनके उपचार के लिए जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में अलग से वार्ड बनाया गया है, जहां पूरे प्रोटोकॉल के अनुसार इलाज किया जा रहा है लेकिन अपुष्ट आंकड़ों के मुताबिक करीब 700 से अधिक रोगी ब्लैक फंगस के राज्य में शिकार है.
उत्‍तर प्रदेश- उत्‍तर प्रदेश में भी ब्‍लैक फंगस के मरीजों की संख्‍या तेजी से बढ़ती दिखाई दे रही है. यूपी में अब तक 250 केस सामने आ चुके है और 11 मरीजों की मौत हो चुकी है. ब्‍लैक फंगस के सबसे ज्‍यादा प्रभावित राजधानी लखनऊ दिखाई देता है. यहां ब्‍लैक फंगस के 73 केस समाने आए हैं और सात मरीजों की मौत हो चुकी है. इसके बाद मेरठ में करीब 67 केस सामने आ चुके हैं और यहां चार मरीजों की मौत हो चुकी है. कानपुर में 50 और वाराणसी में 30 से ज्‍यादा केस सामने आ चुके हैं.
बिहार – बिहार में अब तक लगभग 110 मरीजों में ब्लैक फंगस की पुष्टि हो चुकी है. ब्लैक फंगस से मरनेवालों में अब तक एक मरीज की ही पुष्टि हुई है जो कि बेतिया मेडिकल कॉलेज के चिकित्सक डॉ यूएस पांडेय जिनकी रुबन अस्प्ताल में मौत हुई है. आईजीआईएमएस में अबतक 10 मरीजों का ऑपरेशन किया जा चुका है ,जबकि पटना एम्स में भी 15 मरीजों का अबतक ऑपरेशन हो चुका है.
दिल्‍ली- ब्‍लैक फंगस के इस समय दिल्‍ली में करीब 200 मामले सामने आ चुके हैं. दिल्‍ली एम्‍स में 61 और सर गंगाराम अस्‍पताल में ब्‍लैक फंगस के 69 मरीजों को इलाज चल रहा है. हालांकि इससे पहले दिल्‍ली एम्‍स में ब्‍लैक फंगस के 12 से 15 मामले ही सामने आते थे. यही नहीं, दिल्‍ली एम्‍स और सर गंगाराम अस्‍पताल के अलावा मैक्‍स और इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में ब्लैक फंगस के कई मरीज सामने आ चुके हैं.

हर‍ियाणा- हरियाणा में ब्लैक फंगस के अब तक 190 से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं. प्रदेश के अलग अलग जिलों में करीब 25 मरीजों की मौत हो चुकी है. हरियाणा सरकार ने ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों को देखते हुए 15 मई को ब्लैक फंगस को अधिसूचित रोग घोषित कर दिया था. हरियाणा में ब्लैक फंगस के संक्रमण से बुधवार को चार की मौत हो गई और कई जिलों में नए मामले भी सामने आए थे.

मध्‍य प्रदेश- मध्‍य प्रदेश में 585 कोरोना मरीजों में ब्लैक फंगस का संक्रमण पाया गया है. प्रदेश सरकार ने ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों को देखते हुए कोविड मरीजों की नेज़ल एंडोस्कोपी का अभियान शुरू करने का निर्णय लिया गया है, ताकि ब्लैक फंगस बीमारी की प्राथमिक स्तर पर पहचान कर रोकथाम एवं त्वरित उपचार किया जा सके.
छत्‍तीसगढ़- छत्‍तीसगढ़ में ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या 100 के करीब हो चुकी है जबकि एक मरीज की मौत हो चुकी है. बताया जा रहा है क‍ि सबसे ज्यादा 69 मरीज एम्स में भर्ती हैं और इनमें से 19 का ऑपरेशन हो चुका है. महासमुंद के निजी अस्पताल जैन नर्सिंग होम में ब्लैक फंगस के 6 मामले सामने आए थे, जिसमें 1 मरीज की मौत हो गई है.







Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

COVID-19 Tracker