RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

राजनाथ सिंह ने लॉन्च किया ई-छावनी पोर्टल, देशभर के 62 कैंट बोर्ड में रहने वालों को मिलेगा फायदा

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज एक ई-छावनी पोर्टल की शुरुआत की जो देशभर के 62 छावनी बोर्डों के निवासियों को नगरपालिका संबंधी सेवाएं ऑनलाइन प्रदान करेगा.

इस मौके पर राजनाथ सिंह ने कहा, इस पोर्टल की मदद से, लोग व्यापार लाइसेंस जैसे सरकारी दस्तावेज प्राप्त कर सकेंगे और पानी के कनेक्शन जैसी सेवाओं के लिए आवेदन कर सकेंगे.

इसे भी पढ़े : आजाद भारत में पहली बार किसी महिला को होने जा रही है फांसी, तैयारी शुरू

रक्षा छावनी क्षेत्र में स्वास्थ्य, स्वच्छता, प्राथमिक शिक्षा आदि सार्वजनिक सेवाएं संबंधित छावनी बोर्ड द्वारा प्रदान की जाती हैं, जो रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत एक नागरिक प्रशासन निकाय है. रक्षा मंत्री ने कहा, मुझे भलीभांति पता है कि छावनी बोर्ड में रहने वाले लोगों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

आप घर बैठे अपनी शिकायतें दर्ज करवा सकते हैं और इस पोर्टल की मदद से इनका समाधान पा सकते हैं. उन्होंने कहा, सच यह है कि हमारी सरकार पूरी व्यवस्था को नागरिक-हितैषी बनाना चाहती है.

इसे भी पढ़े : रिहाना ने श्री गणेश के नेकलेस के साथ ट्वीट की टॉपलेस तस्वीर, विवाद बढ़ा

पूरे भारत में 62 छावनी बोर्डों में लगभग 20 लाख लोग निवास करते हैं. मंत्री ने कहा, हमने यह पोर्टल शुरू किया है ताकि लोगों को बार-बार सरकारी कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने पड़े या अपनी समस्याओं के समाधान के लिए लाइन में खड़ा न होना पड़े. उन्होंने कहा कि पोर्टल सभी समस्याओं का हल नहीं है, लेकिन यह सुशासन की दिशा में एक प्रभावी और महत्वपूर्ण कदम है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: