RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

राहुल गांधी पर निर्मला सीतारमण का तीखा हमला

बोलीं- PM का अपमान करना उनकी आदत, बजट पर की चर्चा

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के आरोपों पर पलटवार करते हुए आज कहा कि कांग्रेस नेता फर्जी विमर्श गढ़ते हैं, देश को तोड़ने वाली ताकतों के साथ खड़े होते हैं और संवैधानिक संस्थाओं का अपमान करते हैं.

उन्‍होंने राहुल गांधी पर तीखा हमला करते हुए कहा कि वो पहले के प्रधानमंत्री का भी अपमान करते थे और वह अभी के प्रधानमंत्री का भी अपमान करते हैं.

इसे भी पढ़े : गाजीपुर में किसान आंदोलन के विरोध में उतरे स्थानीय लोग

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह जब विदेश गए थे तो राहुल गांधी ने उनकी ओर से लाए गए अध्यादेश को फाड़कर फेंक दिया था. वित्त मंत्री जिस वाकये का हवाला दे रही हैं, वो साल 2013 का है. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने जब दोषी जनप्रतिनिधियों को चुनाव लड़ने के खिलाफ फैसला दिया था.

इस फैसले को निष्‍प्रभावी बनाने के लिए यूपीए की सरकार ने एक अध्‍यादेश जारी किया था. उस वक्‍त राहुल गांधी ने यूपीए की ओर से लाए गए अध्‍यादेश को बकवास बताते हुए कहा था कि इसे फाड़कर फेंक देना चाहिए.

निर्मला सीतारमण ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा शुरू की प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत गरीबों और रेहड़ी-पटरी वाले विक्रेताओं को 10,000 रुपये की आर्थिक मदद 1 साल के लिए दी गई थी, जिसे एक वर्ष बाद लौटाने या न चुका पाने की स्थिति में और समय लेने का प्रावधान है.

इसे भी पढ़े : दिल्‍ली का रिंकू मर्डर केस पुलिस की क्राइम ब्रांच को सौंपा गया

उन्होंने कहा कि अब तक देश के 50 लाख रेहड़ी-पटरी वालों ने इस योजना का लाभ उठाया है. वित्त मंत्री ने कहा कि मनरेगा के बजट में कमी के कई दावे किए गए. लेकिन पहले मनरेगा के पैसे ऐसे लोगों के पास जाते थे जो इसके पात्र नहीं थे, अब ऐसा नहीं है.

इस बजट में हमने मनरेगा के लिए 73,000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है. आगे जरूरत होगी तो और पैसे दिए जाएंगे.

बजट में कृषि में आवंटन घटाये जाने को लेकर वित्त मंत्री ने कहा कि इस सरकार ने 1.15 लाख करोड़ रुपये का लाभ लगभग 10.75 करोड़ किसानों के खातों में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत हस्तांतरित किया.

हमारा आकलन है कि पश्चिम बंगाल के 65 लाख किसानों को इस योजना का पैसा नहीं दिया जा सका क्योंकि राज्य सरकार की ओर से इन किसानों की सूची नहीं आई, इसलिए हम बजट आवंटन का पूरा उपयोग नहीं कर सके.

इसे भी पढ़े : कनाडाई PM ट्रूडो ने मोदी के साथ बातचीत में किसानों के मुद्दे पर भारत की सराहना की

PM स्वनिधि स्कीम के तहत शहरी क्षेत्रों के रेहड़ी-पटरी वालों को 1 साल के लिए 10,000 रुपये का ऋण बिना किसी गारंटी के उपलब्ध कराया जा रहा है.

यह योजना 20.97 लाख करोड़ रुपये के आत्मनिर्भर भारत अभियान पैकेज का हिस्सा है. यह लोन देशभर में फैले 3.8 लाख साझा सेवा केन्द्रों के जरिये ले सकते हैं या नगर पालिका कार्यालय से आवेदन पत्र ऑनलाइन अपलोड किये जा सकते हैं या फिर बैंक से यह फार्म लिया जा सकता है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: