RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

केंद्र का SC में बयान- बेअंत सिंह के हत्यारे राजोआना की याचिकाओं पर राष्ट्रपति ने शुरू की जांच

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि बलवंत सिंह राजोआना की ओर से दायर दया याचिका की जांच की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. एक सुनवाई के दौरान आज केंद्र ने बताया कि भारत के राष्ट्रपति ने साल 1995 में पंजाब के तत्कालीन मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या के लिए दोषी पाये गये राजोआना की याचिकाओं की जांच शुरू कर दी है. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने बलवंत सिंह राजोआना की ओर से दया याचिका पर फैसला करने के लिए केंद्र को 6 और हफ्ते दिए है.

इसे भी पढ़े : पाकिस्तान में अब PM मोदी के दाढ़ी से भी खौफ

बता दें लुधियाना ज़िले के राजोआना कलां गांव से ताल्लुक रखने वाला बलवंत 1987 में पंजाब पुलिस में कांस्टेबल भर्ती हुआ था. काफी समय से पटियाला जेल में बंद बलवंत ही वो शख्स था, जिसने बेअंत सिंह की हत्या के लिए दिलावर सिंह के शरीर पर बम बांधकर उसे सुसाइड बॉम्बर बनाया था. यही नहीं, दिलावर के फेल होने की सूरत में बलवंत ही उसका विकल्प होने वाला था. बब्बर खालसा इंटरनेशनल संगठन ने बलवंत की सज़ा को लेकर उसके साथ हमदर्दी भी ज़ाहिर की थी.

इसे भी पढ़े : महंगी हुई हवाई टिकटें, सरकार ने घरेलू उड़ानों का बढ़ाया किराया

बेअंत सिंह की हत्या को जायज़ ठहराने वाले बलवंत ने कोर्ट 1996 में कहा था- जज साहिब, बेअंत सिंह खुद को अमन का मसीहा समझने लगा था ओर हज़ारों मासूमों की जान लेकर खुद को गुरु गोबिंद सिंह और राम जी की तरह मानने लगा था इसलिए मैंने उसे खत्म करने का फैसला किया था.

Leave a Reply

%d bloggers like this: