RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

J&K को लेकर अमेरिका ने किया भारत का समर्थन, चिढ़ा पाकिस्तान

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

अमेरिका के जो बाइडन प्रशासन के कश्‍मीर को भारत का बताए जाने पर पाकिस्‍तान को मिर्ची लग गई है. पाकिस्तान ने इसका जमकर विरोध किया है. दरअसल, अमेरिका के विदेश मंत्रालय के दक्षिण एवं मध्य एशिया ब्यूरो ने एक ट्वीट किया था, जिसमें उसने कहा था कि भारत के जम्मू-कश्मीर में 4जी इंटरनेट सुविधा बहाल होने का हम स्वागत करते हैं. अमेरिकी विदेश विभाग की ओर से जम्मू-कश्मीर में 4जी इंटरनेट सेवा बहाल होने का जिक्र अपने ट्वीट में करने पर पाकिस्तान ने गहरी निराशा जाहिर की है.

इस्लामाबाद में पाकिस्तान के विदेश विभाग ने कहा, जम्मू-कश्मीर के दर्जे को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अनेक प्रस्तावों में तथा अंतरराष्ट्रीय समुदाय द्वारा विवादित माना गया है, ऐसे में यह जिक्र असंगत है. पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी भी इस विवाद में कूद पड़े हैं.

इसे भी पढ़े : पिक अप उपर चांवल के कट्टे नीचे भरे थे गौवंश

महमूद कुरैशी ने कहा कि बाइडन प्रशासन को कश्‍मीर में जमीनी हकीकत को अनदेखा नहीं करना चाहिए. उन्‍होंने दुनिया से अपील की कि कश्‍मीर मुद्दे का शांतिपूर्वक समाधान होना चाहिए. कुरैशी ने कहा कि बाइडेन प्रशासन मूलाधिकारों की बात करता है लेकिन कश्‍मीर में जमीनी हकीकत को अनदेखा कर रहा है. उधर, इस विवाद पर बाइडन प्रशासन की ओर से बुधवार को कहा गया कि उसकी जम्मू-कश्मीर संबंधी नीति में कोई बदलाव नहीं किया गया है.

ट्वीट के बारे में पूछे जाने पर अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने पत्रकारों से कहा, मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि क्षेत्र में अमेरिका की नीति में कोई बदलाव नहीं किया गया है.

इसे भी पढ़े : पैंगोंग के दक्षिणी किनारे से पीछे हट रहे हैं चीनी टैंक

विदेश मंत्रालय के दक्षिण एवं मध्य एशिया ब्यूरो ने ट्वीट किया था, भारत के जम्मू-कश्मीर में 4जी इंटरनेट सुविधा बहाल होने का हम स्वागत करते हैं. यह स्थानीय निवासियों के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है और हम जम्मू-कश्मीर में सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए राजनीतिक एवं आर्थिक प्रगति जारी रखने को लेकर आशावान हैं

Leave a Reply

%d bloggers like this: