RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

UP में अब यूनिक कोड से होगी हर जमीन की अपनी पहचान

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने जमीन के खरीदारों को धोखेबाजों से बचाने की बड़ी पहल की है. यूपी में जमीन के हर गाटे की अब अपनी पहचान होगी. योगी सरकार ने जमीन के हर गाटे के लिए 16 अंकों का यूनीक कोड तय किया है.

सरकार का राजस्‍व विभाग कृषि, आवासीय और व्यवसायिक भूमि को चिन्हित कर यूनिक नंबर जारी कर रहा है, जिससे कोई भी व्यक्ति अब घर बैठे एक क्लिक में जमीन का पूरा ब्‍योरा जान सकेगा.

इसे भी पढ़े : इस साल हज यात्रा पर जाने वाले का टूट सकता है सपना, सऊदी ने भारत सहित 20 देशों के नागरिकों के यात्रा पर लगाया रोक

दरअसल, सरकार की मंशा है कि यूनिक कोड के जरिए विवादित भूखंडों के फर्जी बैनामे पर रोक लगाई जा सके. योजना के तहत ज्यादातर जिलों में इस पर काम भी शुरू हो गया है. सभी राजस्व गांवों में भूखंडों  कोड का निर्धारण किया जा रहा है.

इसके अलावा विवादित भूखंडों का राजस्व न्यायलय के कम्प्यूटरकृत प्रबध्नाढ्यं प्रणाली में अंकन भी किया जा रहा है. जमीनों के यूनिक कोड योजना के तहत पुराने और नए मालिकों के नाम को भी जोड़ा जा रहा है.

जमीन के गाटों का यह यूनिक कोड 16 अंकों का होगा. शुरुआत के 6 अंक गांव की जनगणना के आधार पर होंगे. सात से 10 तक भूखंड की गाटा संख्या और 11 से 14 अंक जमीन के विभाजन का नंबर होगा. 15 से 16 नंबर भूमि की श्रेणी होगी. योगी सरकार की इस योजना को बड़ा गेम चेंजर माना जा रहा है.

इसे भी पढ़े : हैती के राष्ट्रपति ने लगाया तख्तापलट और हत्या की साजिश का आरोप, 20 गिरफ्तार

कहा जा रहा है कि इस योजना के लागू होने से जमीन से जुड़ी धोखाधड़ी के मामलों में कमी आएगी। बता दें योगी सरकार जमीन से जुड़े विवादों को ख़त्म करने के लिए स्वामित्व व वरासत योजना भी चला रही है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: