RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

लोन देने से मना किया तो एचडीएफसी बैंक सील

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

निगम की टीम ने बैंक पहुंचकर शटर पर अपने ताले लगाकर सील कर दिया

उज्जैन। प्रधानमंत्री स्व निधि योजना अंतर्गत स्ट्रीट वेंडरों को 10 हजार रुपये का लोन देने के लिये नगर निगम द्वारा शहर की विभिन्न बैंकों को टारगेट दिये गये लेकिन कुछ प्रायवेट बैंकों के मैनेजरों द्वारा इस योजना में रूचि न लेते हुए लोगों को लोन देने में आनाकानी की जा रही है।

कलेक्टर के पास इसकी शिकायत पहुंची। उन्होंने निकास चौराहा स्थित एचडीएफसी बैंक को सील करने के निर्देश दिये जिसके बाद सुबह नगर निगम की टीम ने बैंक पहुंचकर शटर पर अपने ताले लगाकर सील कर दिया। इस दौरान बैंक कर्मचारी अधिकारयों से ऐसा न करने का निवेदन करते रह गये।

इसे भी पढ़े : जैश-ए-मोहम्मद का सक्रिय सदस्य दिल्ली एयरपोर्ट से गिरफ्तार


शनिवार की सुुबह करीब 9 बजे निकास चौराहा स्थित एचडीएफसी बैंक पर नगर निगम सहायक आयुक्त अपनी टीम के साथ पहुंचे। उन्होंने बैंक अधिकारियों को इसकी सूचना दी साथ ही कहा कि कलेक्टर और नगर निगम आयुक्त के आदेश का पालन करते हुए बैंक को सील किया जा रहा है। बैंक के कर्मचारी एक-एक कर यहां पहुंच रहे थे। उन्होंने ऐसा न करने की बात निगम अधिकारियों से कही लेकिन उन्होंने स्पष्ट किया कि आप या तो कलेक्टर या नगर निगम आयुक्त से बात करो, उनके निर्देश मिलने पर ही कार्यवाही रुकेगी।

सहायक आयुक्त ने चर्चा में बताया कि बैंक मैनेजर द्वारा स्ट्रीट वेंडरों को प्रधानमंत्री स्व निधि योजना के अंतर्गत दिये जाने वाले 10 हजार रुपये का लोन जारी करने में आनाकानी की शिकायत अधिकारियों तक पहुंची थी।

इसी कारण कलेक्टर के निर्देश पर बैंक सील करने की कार्यवाही की जा रही है। नगर निगम कर्मचारी नये ताले खरीदकर लाये थे। बैंक के ताले शटर से निकलवाकर अपने ताले लगाये और उस पर कपड़ा बांधकर चपड़ी चिपकाने के साथ सील कर दिया।

इसे भी पढ़े : Whatsapp प्राइवेसी पॉलिसी पर SC ने सुनवाई से किया इनकार


कुछ दिनों पहले इसी योजना के अंतर्गत एक्सीस बैंक देवासरोड़ द्वारा भी स्ट्रीट वेंडरों को लोन देने में आनाकानी की गई थी जिसके बाद कलेक्टर ने उक्त बैंक को सील करवा दिया था, लेकिन शाम को सील की गई बैंक सुबह पुन: अपने निर्धारित समय पर खुल गई थी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: