RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

राष्ट्र के नवनिर्माण में नई शिक्षा नीति सहायक सिद्ध होगीः पूर्व कुलसचिव

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

नई शिक्षा नीति से राष्ट्र बनेगा महाशक्तिःप्रो नूतन

गिरिडीह। शहर के बेंगाबाद स्थित के एन. बक्सी कॉलेज ऑफ एजुकेशन की ओर से नई शिक्षा नीति 2020 विषय पर एक व्याख्यान का आयोजन किया गया। जूम एप्स के माध्यम से ऑनलाइन व्याख्यान में मुख्य वक्ता के रूप में झारखण्ड लोक सेवा आयोग के पूर्व सदस्य सह विनोबा भावे विश्वविद्यालय हजारीबाग एवं सिद्धू कान्हो विश्वविद्यालय दुमका के पूर्व कुलसचिव डॉ. एस पी सिन्हा शामिल हुए।

उन्होंने अपने व्याख्यान में नई शिक्षा नीति 2020 के विभिन्न पहलुओं एवं आयामों पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति से राष्ट्र का नवनिर्माण होगा। यह नीति राष्ट्र निर्माण में सहायक सिद्ध होगी। इस नीति से पढ़ाई में गुणवत्ता आएगी।उन्होंने कहा कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में शिक्षा की उपयोगिता केवल धनोपार्जन करना ही रह गया है।

देश के नवनिर्माण में युवाओं की अधिक से अधिक भागीदारी होनी चाहिए,परंतु युवा वर्ग उच्च ओहदे प्राप्त और अधिक धन की लालसा के लिए विदेश गमन कर जाते हैं। उन्हें तनिक भी अपने राष्ट्र के प्रति चिंता नहीं है। उन्होंने युवाओं से कहा कि राष्ट्र के प्रति समर्पित होकर कार्य करें। हरेक व्यक्ति के अंदर प्रतिभा छिपी रहती है।केवल उन्हें सही दिशा और उचित मार्गदर्शन देने की जरूरत है।उन्होंने कहा की नई शिक्षा नीति हमारे युवा पीढ़ी के लिए एक क्रन्तिकारी कदम है।

वही कॉलेज के उप प्राचार्य प्रो अजित कुमार सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि नई शिक्षा नीति व्यावहारिक एवं रोजगारपरक शिक्षा को बढ़ावा देगा। कॉलेज के सहायक प्राध्यापक प्रो विनोद सुमन ने कहां की नीति न केवल अक्षर ज्ञान पर जोर देती है, बल्कि समाज और राष्ट्र से जुड़ी व्यावहारिक समस्याओं के समाधान पर भी बल देती है।

इसे भी पढ़े : अतिक्रमण के विरुद्ध झिरन्या में बड़ी कार्यवाही शासकीय भूमि से व्यावसायिक भवन ढहाये।

कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापन एवं मुख्य वक्ता के प्रति आभार प्रकट करते हुए शिक्षा विभाग की सहायक प्राध्यापिका प्रो नूतन शर्मा ने कहां की नई शिक्षा नीति युवाओं और महिलाओं के कौशल विकास के साथ- साथ सर्वांगीण विकास पर बल देती है। आगामी समय में नई शिक्षा नीति राष्ट्र को एक महाशक्ति बनाने में मील का पत्थर साबित होगा।

इस अवसर पर व्याख्यानमाला में झारखंड, बिहार, बंगाल के अलावे देश के अन्य राज्यों से भी बड़ी संख्या में शिक्षाविद, शोधार्थी छात्र-छात्राएं एवं विभिन्न विश्वविद्यालयो व महाविद्यालयो के प्राध्यापक गण शामिल थे।

गया से अश्विनी कुमार की रिपोर्ट

Leave a Reply

%d bloggers like this: