भास्कर ओपिनियन: आखिर झारखंड में सत्ता का चेहरा फिर से क्यों बदला?


1 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

राजनेताओें से कुर्सी छूटती नहीं। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार कहा था- मैं तो इस कुर्सी को छोड़ना चाहता हूँ लेकिन ये कुर्सी मुझे नहीं छोड़ती। हो सकता है उस वक्त गहलोत ही सही हों, लेकिन वक्त किसी को भी पीछे छोड़ने से नहीं डरता।

Advertisment 
--------------------------------------------------------------------------
क्या आप भी फोन कॉल पर ऑर्डर लेते हुए थक चुके हैं? अपने व्यापार को मैन्युअली संभालते हुए थक चुके हैं? आज के महंगाई भरे समय में आपको सस्ता स्टाफ और हेल्पर नहीं मिल रहा है। तो चिंता किस बात की?

अब आपके लिए आया है एक ऐसा समाधान जो आपके व्यापार को आसान बना सकता है।

समाधान:
अब आपके साथ एस डी एड्स एजेंसी जुडी है, जहाँ आप नवीनतम तकनीक के साथ एक साथ में काम कर सकते हैं। जैसे कि ऑनलाइन ऑर्डर प्राप्त करना, ऑनलाइन भुगतान प्राप्त करना, ऑनलाइन बिल जनरेट करना, ऑनलाइन लेबल जनरेट करना, ऑनलाइन इन्वेंट्री प्रबंधन करना, ऑनलाइन सीधे आपके नए आगमनों को सोशल मीडिया पर ऑटो पोस्ट करना, ऑनलाइन ही आपकी पूरी ब्रांडिंग करना। आपके स्टोर को ऑनलाइन करने से आपके गैर मौजूदगी के समय में भी लोग आपको आर्डर कर पाएंगे। आपका व्यापार आपके सोते समय भी रॉकेट की तरह दौड़ेगा। गूगल पर ब्रांडिंग मिलेगी, सोशल मीडिया पर ब्रांडिंग मिलेगी, और भी बहुत सारे फायदे मिलेंगे आपको! 🚀

ई-कॉमर्स प्लान:
मूल्य: 40,000 रुपये
50% छूट: 20,000 रुपये
ईएमआई भी उपलब्ध है
डाउन पेमेंट: 5,000 रुपये
10 ईएमआई में 1,500 रुपये
साथ ही विशेष गिफ्ट कूपन

अब आज ही बुकिंग कीजिए और न्यूज़ पोर्टल्स में विज्ञापन प्लेस करने के लिए आपको 10,000 रुपये का पूरा गिफ्ट कूपन दिया जा रहा है! इसे साल भर में हर महीने 10,000 रुपये के विज्ञापन की बुकिंग के लिए 10 महीने तक उपयोग कर सकते हैं।

अब तकनीकी की मदद से अपने व्यापार को नई ऊँचाइयों तक ले जाइए और अपने व्यापार को बढ़ावा दें! 🌐
अभी संपर्क करें - 📲8109913008 कॉल / व्हाट्सप्प और कॉल ☎️ 03369029420


 

कुछ ही दिन बाद चुनाव हुए और गहलोत को भी कुर्सी छोड़नी पड़ी और कुर्सी तो कभी किसी की होती ही नहीं! ये बात वक्त ने अच्छी तरह से बता दी। सही है झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को जेल में डालना वक्त का ग़लत निर्णय हो, लेकिन जेल से निकलते ही उनका फिर से मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने का निर्णय कितना सही है, ये भी वक्त ज़रूर बताएगा।

भला हो चंपई सोरेन का जो बिहार के जीतनराम माँझी की तरह कुर्सी से नहीं चिपके, वर्ना लेने के देने पड़ सकते थे। कुल मिलाकर राजनीतिक तक़ाज़ा कहता है कि हेमंत सोरेन सत्ता से दूर रहते तो अगले विधानसभा चुनाव में उन्हें और उनकी पार्टी को इसका ज़्यादा फ़ायदा मिलता। क्योंकि राज्य में चुनाव के लिए मात्र चार-साढ़े चार महीने ही बचे हैं।

ऐसे में हेमंत थोड़ा सा धैर्य दिखाते तो उनकी जीत अगले चुनाव में सौ प्रतिशत पक्की हो सकती थी। हो सकता है वे अब भी जीत जाएं लेकिन अगले चार- साढ़े चार महीनों तक उनके राज के दौरान एंटी इन्कंबेन्सी कितनी बढ़ेगी यह अभी से कहा नहीं जा सकता।

इतना ज़रूर है कि जेल जाने के कारण उनके प्रति जो सहानुभूति उपजी थी, उसमें कमी आना लाज़मी है। चंपई सोरेन हालाँकि कुछ भी कहते रहें, लेकिन निश्चित तौर पर वे इस फ़ैसले से दुखी ज़रूर होंगे।

क्योंकि जब उनसे खुद के इस्तीफ़े या सत्ता परिवर्तन का कारण पूछा गया तो उन्होंने तपाक से यह नहीं कहा कि हेमंत सोरेन या शिबू सोरेन के प्रति अपार श्रद्धा के कारण उन्होंने ऐसा किया है, जैसा कि अक्सर नेता लोग कहते रहते हैं। उन्होंने केवल यह टका सा जवाब दिया कि यह गठबंधन का निर्णय है।

सही मायने में कहा जाए तो निजी कारण से ही नहीं, बल्कि राजनीतिक परिपक्वता के तक़ाज़े के कारण भी चंपई सोरेन इस फ़ैसले से क़तई खुश नहीं हैं। वे अच्छी तरह जानते हैं कि विधानसभा चुनाव सिर पर हों तब इस तरह के राजनीतिक फ़ैसले किसी हाल में सही नहीं कहे जा सकते।



Source link


Discover more from सच्चा दोस्त न्यूज़

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours

Leave a Reply