UP Assembly Election: BJP ने कसी कमर, 5 कार्यक्रमों के जरिए जमीनी स्तर पर फिर पकड़ बनाने की तैयारी


उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने जमीनी स्तर पर तैयारियां शुरू कर दी हैं. (सांकेतिक फोटो)

विधानसभा चुनावों में कम समय रह गया है. ऐसे में अब BJP ने जमीनी स्तर पर काम करने के लिए पांच कार्यक्रम शुरू करने का निर्णय लिया है, इन कार्यक्रमों की जिम्मेदारी पार्टी महामंत्रियों को दी गई है, उनके साथ ही एक-एक प्रदेश मंत्री भी सहयोग के लिए होंगे.

लखनऊ. एक तरफ पिछले लंबे समय से कोरोना का प्रकोप चल रहा है और वहीं उत्तर प्रदेश में अब जल्द ही विधानसभा चुनाव आने को हैं. विधानसभा चुनावों में करीब नौ महीने का समय बचा है. और कोरोना के प्रकोप के चलते बीजेपी के लिए भी मुश्किल समय चल रहा था. इसके चलते अभी तक पार्टी जमीनी स्तर पर उतरने में नाकाम थी और इसी के चलते काफी परेशानियां भी थीं. लेकिन अब बीजेपी ने अपनी कमर कस ली है. कोरोना काल को ही एक हथियार के तौर पर इस्तेमाल करने की योजना बनाते हुए अब बीजेपी ने जमीनी स्तर पर उतरने की तैयारी कर ली है.

पार्टी संगठन ने अब सेवा संगठन कार्यक्रम के माध्यम से पांच प्रोग्राम तय किए हैं और इन सभी की जिम्मेदारी भी सौंप दी गई है. इन पांचों कार्यक्रमों की जिम्मेदारी पार्टी महामंत्रियों को दी गई हैं. खास बात ये है कि इन महामंत्रियों के साथ एक प्रदेश मंत्री भी लगाए गए हैं.

क्या हैं कार्यक्रम

इसके तहत पहला कार्यक्रम प्राथमिक स्वास्‍थ्य केंद्र को गोद लेने का है. इस कार्यक्रम की जिम्मेदारी महामंत्री प्रियंका रावत को दी गई है. प्रदेश के मंत्री त्रयंबक नाथ त्रिपाठी भी उनके साथ इस कार्यक्रम में सहयोगी की भूमिका में रहेंगे. पीएचसी कार्यक्रम में सभी लोकसभा, राज्यसभा सांसद अपने संसदीय क्षेत्र की विधानसभा में एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को गोद लेंगे. सभी विधायक और एमएलसी भी अपने क्षेत्र का एक-एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गोद लेंगे. इतना ही नहीं सभी निगम बोर्ड आयोग के चेयरमैन समेत प्रमुख पदों पर मनोनीत लोगों को भी एक-एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गोद लेना है. पार्टी का उद्देश्य है कि उत्कृष्ट सक्षम स्वास्थ्य केंद्र बने.दूसरा कार्यक्रम पोस्ट कोविड सेंटर को लेकर है. इसके माध्यम से बीजेपी के कार्यकर्ता लोगों की सेवा कर सकेंगे. इसकी जिम्मेदारी महामंत्री अनूप गुप्ता और प्रदेश मंत्री रामचंद्र कन्नौजिया को दी गई है. पार्टी का निर्देश है कि कोरोना से ठीक होने के बाद दुष्प्रभावों से आमजन को बचाने के लिए कार्यकर्ता सामाजिक भूमिका का निर्वहन करें. इसके लिए पोस्ट कोविड सेंटर बनाकर जरुरतमंदों को चिकित्सीय सहायता उपलब्ध कराएं. हर जिले में पोस्ट कोविड सेंटर चिकित्सकों को जोड़कर एक टीम तैयार करेगा जो जरुरतमंदों की मदद कर सकें.

बीजेपी ने एक बार फिर जमीनी स्तर पर उतरने की तैयारी के साथ ही इसकी जिम्मेदारी पार्टी महामंत्रियों को दी है. (सांकेतिक तस्वीर)

तीसरा बड़ा कार्यक्रम वैक्सीनेशन को लेकर जागरुकता लाना है. जिसकी जिम्मेदारी गोविंद नारायण शुक्ला को दी गई है. इनके साथ प्रदेश मंत्री संजय राय रहेंगे. वैक्सीनेशन जागरुकता के माध्यम से बीजेपी के आईटी और युवा मोर्चा के कार्यकर्ता गांव-गांव जाकर लोगों को जागरुक करेंगे.

चौथा कार्यक्रम यूपी स्कीम है जिसकी जिम्मेदारी अमरपाल मौर्य को दी गई है और उनके साथ प्रदेश मंत्री सुभाष यदुवंश रहेंगे. इसके माध्यम से सरकारी योजनाओं का लाभ जनता को दिलवाया जाएगा. कोई भी व्यक्ति सरकारी योजनाओं से वंचित न रहे इसका पूरा ध्यान रखा जाएगा.

पांचवा कार्यक्रम पंचायत चुनाव को लेकर है. इसमें एजेंडा तैयार किया जाएगा जिसकी जिम्मेदारी महामंत्री जे पी एस राठौर को दी गई है. इनके साथ प्रदेश मंत्री शंकर लोधी को रखा गया है.

केवल चुनावी तैयारी नहीं

बीजेपी के चुनावी तैयारियों के बारे में महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला कहते हैं कि यह केवल चुनावी तैयारी नहीं है बल्कि सेवा ही संगठन के भाव को लेकर अपने अपने क्षेत्र में पार्टी के कार्यकर्ता कोरोना के संकट काल में जनता की सेवा में लगे रहें. कार्यकर्ताओं की प्राथमिकता रहेगी कि सभी अपने क्षेत्र में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संचालित अलग अलग योजनाओं का लाभ जरुरतमंद लोगों तक पहुचाएं. बीजेपी ने सेवा को हथियार बनाकर जमीन पर अपने कार्यकर्ताओं को उतारने का प्लान तैयार कर लिया है ताकि लोगों के बीच में पैठ बनाई जा सके.









Source link

Leave a Reply

COVID-19 Tracker
%d bloggers like this: