कोरोना से होने वाली मौतों के आंकड़ों पर घमासान, पप्पू यादव ने पूछा- बिहार में मौत घोटाला कौन कर रहा है!


पप्पू यादव इस समय जेल में हैं. .(फाइल फोटो)

बिहार सरकार के स्वास्थ्य विभाग (Health Department) ने हाल में कोरोना से होनी वाली मौतों के नया आंकड़ा जारी किया है. इस वजह से मौतों का आंकड़ा 5458 से बढ़कर अचानक 9429 हो गया. इस नये आंकड़े को लेकर विपक्ष सीएम नीतीश पर हमलावर है.जबकि पप्‍पू यादव ने इस मौत का घोटाला बताया है.

पटना. बिहार में कोरोना से मरीजों की मौत (Corona Death)के आंकड़ों में आये बदलाव के बाद स्वास्थ्य विभाग (Health Department) सवालों के घेरे में आ गया है. पहले विभाग ने कहा था कि 5458 लोग मरे हैं, लेकिन स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत के बयान के से मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 9429 हो गई. कोरोना से मरने वाले लोगों के नये आंकड़ों के साथ न सिर्फ स्वास्थ्य विभाग सवालों के घेरे में है बल्कि विपक्ष ने नीतीश सरकार (Nitish Government) पर निशाना साधना शुरू कर दिया है.

बता दें कि जाप के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व सांसद पप्पू यादव (Pappu Yadav) कोरोना मरीजों की मौत के आंकड़ों पर शुरू से ही सवाल उठा रहे थे. अब विभाग की सच्चाई सामने आने के बाद उनका हमला और तेज हो गया है. पूर्व सांसद ने सरकार के काले कारनामों का कच्चा चिट्ठा खोला ही था कि उनको 32 साल पुराने अपहरण के एक मामले में जेल भेज दिया. अभी पूर्व सांसद पप्पू यादव जेल में ही हैं, लेकिन सरकार पर ट्वीट के माध्यम से लगातार हमलावर हैं.

पूर्व सांसद पप्पू यादव ने कही ये बात

बिहार सरकार स्वास्थ्य विभाग की सच्चाई सामने आने के बाद पप्पू यादव ने ट्वीट कर सरकार को घेरा है. उन्‍होंने ट्वीट कर बिहार सरकार से पूछा है कि आज एक दिन में बिहार में 3971 लोग कोरोना से मरे हैं. और ये आंकड़े कोविड19 इंडिया डॉट ओआरजी पर मौजूद हैं. सरकार बताए एक दिन में इतनी मौते कैसे हुईं. मंगल और मोदी मुंह खोलें. इसके साथ पूर्व सांसद पप्पू यादव ने ट्वीट करके कहा है कि कुर्सी कुर्सी खेलने वालों, मन्दिर और मस्जिद के नाम पर जहर घोलने वालों ठहर जाओ वरना मौत तुम्हारे दर पर भी दस्तक देगी.इसके अलावा पूर्व सांसद ने एक अन्‍य ट्वीट में लिखा,’बिहार में मौत घोटाला! पटना में कल 1000 से अधिक लोगों की कोरोना से मौत की क्या है सच्चाई? कहा जा रहा है कि पहले मौत के आंकड़ों को छुपाया गया था, अब उन्हें जारी किया गया है. आखिर यह खेल किसका है? स्वास्थ्य विभाग में मौत के आंकड़ों का घोटाला कौन कर रहा है?

ये भी पढ़ें- सिंधिया के बाद जितिन प्रसाद ने थामा कमल, ‘चौकड़ी’ के टूटने से राहुल गांधी की बढ़ी टेंशन, पढ़ें पूरी कहानी

बहरहाल, बिहार सरकार के स्‍वास्‍थ्‍य विभाग द्वारा जारी आंकड़े में यह नहीं बताया गया है कि ये अतिरिक्त मौतें कब हुईं, लेकिन प्रदेश के सभी 38 जिलों का एक ब्रेकअप उल्लेखित किया गया है.









Source link

Leave a Reply

COVID-19 Tracker
%d bloggers like this: