आसमान में खत्म हुआ ईंधन तो हवा में ही भर दिया गया तेल, अमेरिकन नेवी ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड


हवा में ही विमान में ड्रोन ने इंधन भरा. (Photo Credit- Twitter/US Navy)

फाइटर जेट्स (Fighter Jet) में ईंधन भरने के लिए उनका बार-बार कैरियर पर आना सबसे ज्यादा रिस्की होता है. ऐसे में दुनिया की सबसे एडवांस सेनाओं (World’s Top Forces) में टॉप पर रहने वाली अमेरिकन नेवी ने कमाल कर दिखाया है. उन्होंने हवा में ही जेट में ईंधन भरने (Refuels Aircraft on air Using Unmanned Drone) का इंतजाम कर लिया है. ये कारनामा देखकर दुनिया चकित है.

टेक्नॉलजी के मामले में अमेरिका की नेवी (US Navy) ने कमाल कर दिखाया है. दुनिया में पहली बार हवा में प्लेन के अंदर ईंधन डालने का पहला कारनामा अमेरिकन नेवी (US Navy) के एक मानवरहित ड्रोन (Unmanned Drone) ने किया है. अमेरिकी नौसेना और बोइंग कंपनी के इस संयुक्त प्रयास ने दुनिया को अचरज में डाल दिया है.

मानवरहित ड्रोन MQ-25 T1 ने हवा में उड़ान के दौरान ही एक विमान में जाकर सफलतापूर्वक ईंधन भरा. ये दुनिया का पहला ऐसा मामला है. अमेरिकन नेवी के एडमिरल ब्राइन कोरे (Rear Admiral Brian Corey) ने कहा है कि ये कार्य पूरी सफलता से किया गया. अमेरिकन नेवी ने अपने ट्विटर हैंडल से इस उपलब्धि को शेयर भी किया है. नेवी की ओर से कहा गया है कि एमक्यू-25 (MQ-25 T1 ) टैंकर मिशन की ज़रूरतों को पूरा करने वाला है. इससे विमान वाहकों की क्षमता से बढ़ोत्तरी होगी.

इस परीक्षण के दौरान नौसेना का विमान F/A-18 सुपर हार्नेट हवा में ही मानवरहित ड्रोन MQ-25 T1 के संपर्क में आया. उसने अपने एरियल रिफ्यूलिंग स्टोर से विमान में ईंधन भरा और फिर वापस आ गया. इस तरह की सफलता के बाद ईंधन की समस्या से काफी हद तक मुक्ति मिल सकेगी. फाइटर जेट को इस टेक्नॉलजी (Refuels Aircraft on air Using Unmanned Drone) के विकसित होने के बाद बार-बार ईंधन के लिए कैरियर पर उतरना नहीं पड़ेगा. इससे अमेरिकी लड़ाकू विमानों को काफी मजबूती मिल सकेगी. बार-बार लैंडिंग और टेक ऑफ से बचने के कारण लड़ाकू विमानों के दुर्घटनाग्रस्त होने का चांस भी कम हो जाएगा और उनका ईंधन भी बचेगा.ये भी पढ़ें- दक्षिण अफ्रीका में महिला के नाम हुआ वर्ल्ड रिकॉर्ड, एक साथ 10 बच्चों को दिया जन्म









Source link

Leave a Reply

COVID-19 Tracker
%d bloggers like this: