एन. रघुरामन का कॉलम: ब्रांड वास्तविक अतिथि अनुभव देने की ओर बढ़ रहे हैं


3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु - Dainik Bhaskar

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु

वो दृश्य याद हैं, जहां गोली लगने से घायल हुए फिल्म के नायक को ऑपरेशन थिएटर के अंदर ले जाया जाता है और फिर अगले दृश्य में मास्क के पीछे कोई अनजाना चेहरा दस्ताने पहने हाथ आगे बढ़ाता है और उसी तरह की ड्रेस पहनी नर्स उसे चिमटी थमाती है।

Advertisment 
--------------------------------------------------------------------------
क्या आप भी फोन कॉल पर ऑर्डर लेते हुए थक चुके हैं? अपने व्यापार को मैन्युअली संभालते हुए थक चुके हैं? आज के महंगाई भरे समय में आपको सस्ता स्टाफ और हेल्पर नहीं मिल रहा है। तो चिंता किस बात की?

अब आपके लिए आया है एक ऐसा समाधान जो आपके व्यापार को आसान बना सकता है।

समाधान:
अब आपके साथ एस डी एड्स एजेंसी जुडी है, जहाँ आप नवीनतम तकनीक के साथ एक साथ में काम कर सकते हैं। जैसे कि ऑनलाइन ऑर्डर प्राप्त करना, ऑनलाइन भुगतान प्राप्त करना, ऑनलाइन बिल जनरेट करना, ऑनलाइन लेबल जनरेट करना, ऑनलाइन इन्वेंट्री प्रबंधन करना, ऑनलाइन सीधे आपके नए आगमनों को सोशल मीडिया पर ऑटो पोस्ट करना, ऑनलाइन ही आपकी पूरी ब्रांडिंग करना। आपके स्टोर को ऑनलाइन करने से आपके गैर मौजूदगी के समय में भी लोग आपको आर्डर कर पाएंगे। आपका व्यापार आपके सोते समय भी रॉकेट की तरह दौड़ेगा। गूगल पर ब्रांडिंग मिलेगी, सोशल मीडिया पर ब्रांडिंग मिलेगी, और भी बहुत सारे फायदे मिलेंगे आपको! 🚀

ई-कॉमर्स प्लान:
मूल्य: 40,000 रुपये
50% छूट: 20,000 रुपये
ईएमआई भी उपलब्ध है
डाउन पेमेंट: 5,000 रुपये
10 ईएमआई में 1,500 रुपये
साथ ही विशेष गिफ्ट कूपन

अब आज ही बुकिंग कीजिए और न्यूज़ पोर्टल्स में विज्ञापन प्लेस करने के लिए आपको 10,000 रुपये का पूरा गिफ्ट कूपन दिया जा रहा है! इसे साल भर में हर महीने 10,000 रुपये के विज्ञापन की बुकिंग के लिए 10 महीने तक उपयोग कर सकते हैं।

अब तकनीकी की मदद से अपने व्यापार को नई ऊँचाइयों तक ले जाइए और अपने व्यापार को बढ़ावा दें! 🌐
अभी संपर्क करें - 📲8109913008 कॉल / व्हाट्सप्प और कॉल ☎️ 03369029420


 

इसके बाद के दृश्य में कैमरा उन हाथों को दिखाता है, जो शरीर से गोली निकालते हैं और धातु की उस ट्रे में डालते हैं, जिसे मेडिकल की भाषा में किडनी ट्रे बोलते हैं और इसके बाद साउंड डायरेक्टर क्लिकिंग साउंड देता है। कैमरा किडनी ट्रे पर स्थिर रहता है और उसी आवाज के साथ दूसरी गोली भी ट्रे पर आकर गिरती है। फिर डॉक्टर एक बड़ी-सी वॉश बेसिन की ओर जाकर दस्ताने उतारते हैं, नल के बहते पानी से हाथ धोते हैं।

ताज्जुब होता है कि डॉक्टर उस किडनी ट्रे में हाथ क्यों नहीं धोते? एक तो उसमें रखी गोलियां फॉरेंसिक भेजनी होती हैं, दूसरा ये ट्रे इतनी छोटी होती है कि कोई भी हाथ न धो पाए। अगर ये इतनी ही छोटी है तो भारत में हवाई अड्डा प्राधिकरण से लेकर एयरलाइन मालिकों तक पूरा विमानन उद्योग ये आशा क्यों करता है कि हम यात्री पैंट गंदी किए बिना किडनी-ट्रे आकार के वॉश बेसिन में हाथ धोएं?

अगर विमान में सबसे छोटे वॉशरूम की होड़ हो तो ऐसे कई आधुनिक विमानों में 100 किलो वजनी लोग तो अंदर तक नहीं जा सकते! कुछ रिएलटी शो निर्माताओं को इससे आइडिया मिल सकता है कि वे किडनी ट्रे के आकार की वॉश बेसिन में हाथ धोने की स्पर्धा कराएं! यकीन नहीं हो तो किसी भी आधुनिक ए320 विमान में जाएं और खुद ही सबसे छोटे वॉश बेसिन व वॉशरूम को देखें!

जब भारतीय विमानों में वॉशरूम सिकुड़ रहे हैं, तो अमेरिकी हवाई अड्डे अपने टॉयलेट डिजाइन कर रहे हैं, जहां लोग बैग रख सकें, कोट-पैंट, लैपटॉप बैग या बैकलॉग शेल्फ में लटका सकें और हैंड्स फ्री दरवाजा बंद कर सकें। 12 से 24 घंटे लंबी फ्लाइट वाले चुनिंदा एयरपोर्ट्स टॉयलेट का अनुभव अलग स्तर पर ले जा रहे हैं।

वे रेस्टरूम में जगह बना रहे हैं, जहां लोग शॉवर ले सकें, बच्चों के कपड़े बदलने की सुविधा हो, पेट्स आराम कर सकें, आंखों को सुहाना लगने के लिए ऑर्किड लगा रहे हैं, साथ ही और शेल्व्स दे रहे हैं। वे वास्तव में आपके हवाई अड्डे के अनुभव को यथासंभव सहज बनाना चाहते हैं, विशेष रूप से उन सिंगल पैरेंट्स के लिए जिनकी संख्या बढ़ रही है।

ये विचार इसलिए आया क्योंकि यात्रियों को विमान प्रस्थान से दो-तीन घंटा पहले एयरपोर्ट आना होता है, जब वे अलसुबह पहुंचते हैं तो वॉशरूम जाना मजबूरी हो जाती है। इसलिए वे स्पा जैसा माहौल दे रहे हैं, जो हर किसी को आराम दे। एयरलाइंस चेक-इन बैगेज की कॉस्ट लगातार बढ़ा रहे हैं, ऐसे में हैंड बैगेज बढ़ रहे हैं- जिसमें ओवरकोट, हैट आदि सूटकेस तक की जगह ले लेते हैं।

एयरपोर्ट ही इकलौती एेसी जगह है जहां लोग अपनी सारी चीजें अंदर लेकर आते हैं। इसी खासियत को समझते हुए अधिकारियों ने सबसे पहले बाथरूम को आधुनिक बनाने के बारे में सोचा। वहीं भारतीय हवाई अड्डों में यात्रियों को टॉयलेट इस्तेमाल करने के लिए जिमनास्ट जैसा लचीलापन चाहिए होता है!

किसी भी सेवा क्षेत्र में उसके फंक्शनल फायदों (जैसे ट्रांसपोर्ट) से ज्यादा अनुभव मायने रखता है। आकर्षक, साफ, आरामदायक व सबसे जरूरी इंडस्ट्री के मानकों से बड़े वॉशरूम बनाकर न सिर्फ ग्राहकों को संतुष्ट करेंगे, बल्कि यात्रा भी सुखद बना सकते हैं।

फंडा यह है कि अगर आप सर्विस इंडस्ट्री में हैं तो सिर्फ चुकाई गई कीमत के बराबर सुविधाएं न दें, बल्कि थोड़ा आगे बढ़ते हुए मेहमानों को सच्चा अनुभव प्रदान करें। आप महंगी और ब्रांडेड होटल्स में एेसे अनुभव महसूस कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link


Discover more from सच्चा दोस्त न्यूज़

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours

Leave a Reply