सन्तों की मौज

सन्तों की अपनी ही मौज होती है! एक संत अपने शिष्य के साथ किसी अजनबी नगर में पहुंचे। रात हो चुकी थी और वे दोनों सिर छुपाने के लिए किसी…
Continue Reading
रचनाये

निराशा से आशा की और… सहयोग का एक हाथ

ऑफिस से निकल कर सरदार जी ने स्कूटर स्टार्ट किया ही था कि उन्हें याद आया, . पत्नी ने कहा था,1 दर्ज़न केले लेते आना।  तभी उन्हें सड़क किनारे बड़े…
Continue Reading
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com