भोपाल से सच्चा दोस्त प्रतिनिधि : मध्य प्रदेश की राजधानी कहलाने वाली भोपाल स्टेशन एक तरफ तो नए स्वरूप में यात्रियों को लुभाने में लगा हुआ है तो वहीं दूसरी तरफ भोपाल के स्लीपर क्लास प्रतीक्षालय में ज्ञान दीप वैशाली संस्थान द्वारा संचालित शौचालय सेवा के लिए मध्य रेल प्रबंधन वाणिज्य विभाग द्वारा निर्धारित दर स्नान 5/- शौच 2/- की जगह शौच के लिए 5 गुना 10/- अवैध वसूली किया जा रहा है तो वहीं स्नान के लिए 2 गुना 10/- की अवैध वसूली किया जा रहा है। सच्चा दोस्त प्रतिनिधि द्वारा प्रातः कालीन 4 बजे से 6 बजे तक निरक्षण करने पर पाया कि कम से कम इस दौरान 200 से अधिक यात्री शौच ओर स्नान के लिए शौचालय सेवा का लाभ लिया जिसमे आप अनुमान लगा सकते है कि 2 घंटे में शौच के लिए 1600 रुपये ओर स्नान के लिए 1000 रुपये करीबन अवैध वसूली किया गया है। दिन भर यात्रियों से भरा रहने वाला स्टेशन पर तकरीबन दिन भर में हजारों की तादात में यात्री शौचालय सुविधा का लाभ लेते है जिसमे कितने लंबे स्तर पर भ्रष्टाचारी पैर पसार रखा है। ऐसे में यह सवाल उठता है कि भ्रष्टाचारी को जड़ से उखाड़ फैकने के लिए तत्पर नजर आते प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के यातायात हेतु सबसे महत्वपूर्ण मंत्रालय रेल विभाग का भ्रष्टाचार आखिर कब खत्म होगा।
यहां का तो यहीं नियम है – शौचालय परिचालक
सच्चा दोस्त प्रतिनिधि द्वारा शौचालय परिचालक से वार्तालाप करने पर परिचालक का कहना है कि यहां का यही नियम है। इसपर अधिकारी भी कुछ नही कर सकते।

नही है सुझाव एवं शिकायत पुस्तिका
शौचालय दर सूचना पट (बोर्ड) पर लिखा है कि सुझाव एवं शिकायत पुस्तिका परिचालक के पास उपलब्ध है किंतु मांगने पर साफ माना कर दिया जाता है कि नही है कोई सुझाव एवं शिकायत पुस्तिका।