बामौर कलाँ से पत्रकार अतुल जैन की रिपोर्ट

 कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सीएम शिवराज सिंह को खुले मंच पर बहस करने की चुनौती दी है। सिंधिया का दावा है कि 13 साल में शिवराज ने जो वादे किए, उनमें से ज्यादातर पूरे नहीं किए। प्रदेश में विकास नहीं हुआ, केवल विकास कार्यों के विज्ञापन छापे गए हैं। सिंधिया अपने लोकसभा क्षेत्र शिवपुरी में मीडिया से बात कर रहे थे। बता दें कि अमित शाह ने इस बार सिंधिया को इस सीट से पराजित करने का बीड़ा उठाया है। याद दिला दें कि कमलनाथ ने भी शिवराज सिंह को चुनौती दी थी कि मप्र में कोयला आपूर्ति बंद हो गई है। एक बार फिर केंद्र सरकार के खिलाफ उपवास करें। वो खुद शिवराज के साथ उपवास में शामिल होंगे। 

सिंधिया ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि प्रदेश में सरकार द्वारा किए गए जनहित कार्यों पर वह सीएम शिवराज से खुली बहस करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने सरकार पर हमला बोलते हुए बीते 13 सालों में सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यों का हिसाब मांगा है। सिंधिया ने कहा कि ग्वालियर चंबल संभाग में कितने विकास कार्य किए हैं, इसके लिए वे प्रदेश के मुख्यमंत्री को बहस के लिए आमंत्रित करते हैं।

कांग्रेस सांसद ने कहा कि यह कैसी योजनाएं हैं जो 10 बरस पहले स्वीकृत हो गई थी काम चालू हो गया था लेकिन वह आज तक पूरी नहीं हो पाई हैं। इनमें शिवपुरी को पानी दिलाने वाली मणिखेड़ा जल आवर्धन योजना भी शामिल है।

सिंधिया ने दावा किया कि पूरे देश में फसल बीमा की सबसे कम राशि मध्यप्रदेश में दी गई है। 23 हजार करोड़ रुपए बीमा कंपनियों को दिया गया था, जिसमें से 16 हजार करोड़ रुपए के दावे में से 9000 करोड़ रुपए के दावे ही मान्य किए गए। इसमें भी केवल 45 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार आदर्श ग्रामों की हालत भी खराब है, उनके विकास के लिए एक रुपए भी नहीं दिया गया।