न्यू जर्सी से ब्यूरो रिपोर्ट (राइट अप- रेनू जैन) : अमेरिका के ईस्ट ब्रुंस्विक न्यू जर्सी में भारतीय कला के प्रेमियों के लिए आयोजित शास्त्रीय संगीत महोत्सव का आयोजन 21 मई भारत के 22 मई को संपन्न हुआ.
न्यू जर्सी के जाने माने हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत विद्यालय, पंडित जसराज इंस्टिट्यूट ऑफ़ म्यूजिक ने इस कार्यक्रम का आयोजन किया था। कार्यक्रम की शुरुआत, श्रीमती शुभा वर्मा ने राग बागेश्री में निबद्ध एक सरस्वती वंदना से की। श्रीमती ललिता माथुर ने हारमोनियम पर और आदित्य नारायण बनर्जी ने तबले पर श्रीमती शुभा का साथ दिया। विश्वविख्यात पद्मविभूषण संगीत मार्तण्ड पंडित जसराज ने अपने सुरों से सैंकड़ों दर्शकों का मन मोह लिया। श्री पंडित जसराज ने कई रागों की बंदिशे और रचनाएँ श्रोताओं को सुनाई, जिन में से मुख्य राग थे, राग मधुवंती, दिन की पुरिया, काफी, नायकी कान्हड़ा और भीमपलास। श्री जसराज के साथ, तानपुरे पर मास्टर स्वर शर्मा, वोकल सपोर्ट पर पंडित रतन मोहन शर्मा और पंडिता तृप्ति मुख़र्जी ने सांगत किया तो वही तबले पर आदित्य नारायण बनर्जी ने साथ दिया.
श्री जसराज की रागों की अदायगी सुनते ही बनती थी। कार्यक्रम समाप्त होने पर भी दर्शक वहां से जाना नहीं चाहते थे, कुछ और देर उन्हें सुनना चाहते थे, श्री रतन और श्रीमती मुखर्जी की स्वर संगती बेहद सुरीली थी , स्वर शर्मा अभी बहुत कम उम्र होने के बावजूद बहुत अच्छा साथ निभा रहे थे। श्री बैनर्जी की तबले पर संगती बेमिसाल थी।