मनीष कुमट की रिपोर्ट
पूण्य सम्राट आचार्य देवेश श्रीमद विजय जयन्त सेन सुरिश्वर जी गुरुदेव की मासिक पुण्यतिथि पर कन्याकुमारी मे आयोजित शिविर मे मुनिराज श्री संयम रत्न विजय जी म. सा. एवम् श्री भुवन रत्न विजय जी म. सा. की पावन निश्रा मे गुरु गुणानुवाद एवम् आयम्बिल हुए,
शिविर के बच्चों ने आचार्य श्री को सच्ची श्रंद्धांजलि देते हुए नियम लिया कि हम वहीँ वस्तु खायेंगे जो साधु-साध्वी भगवन्तो को व्होरा सके, साथ ही रात्रि भोजन व् जमीकंद त्याग के नियम भी लिए।