चंडीगढ़। उत्तर प्रदेश में किसानों के एक लाख रुपये तक के कर्जे माफ किए जाने के बाद हरियाणा में भी इसके आवाज उठने लगी है। किसान संगठनों ने कर्ज माफी के लिए प्रदेश सरकार पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार की तरह मनोहरलाल सरकार भी हरियाणा के किसानाें के कर्ज माफ करें। इसके साथ ही इनेलो और कांग्रेस भी किसानों के समर्थन में उतर आए हैं।
हरियाणा के 15 लाख किसानों पर करीब 36 हजार करोड़ का कर्जा
हरियाणा में लंबे समय से किसान यूनियनें और विपक्षी दल किसानों की बदहाली का मुद्दा उठाकर कर्ज माफी की मांग करते रहे हैं। वर्तमान में प्रदेश में करीब साढ़े 16 लाख किसान हैं । इनमें से करीब 15 लाख कर्ज के बोझ तले दबे हैं। हालांकि पूर्व कांग्रेस सरकार ने किसानों का 27 हजार करोड़ रुपये का ऋण माफ किया था, लेकिन अब फिर से किसानों पर करीब 36 हजार करोड़ का कर्जा चढ़ गया है।

सड़कों पर उतरेंगे किसान
किसान संगठनों ने हरियाणा के किसानों के कर्ज माफी के लिए आंदोलन शुरू करने की धमकी दी है। किसान संगठनों ने कहना है कि राज्‍य के किसान कर्ज के बोझ तले दबे हुए हैं। ऐसे में राज्‍य सरकार उनको रहात देने के लिए कदम उठाए और उत्‍तर प्रदेश की तरह कर्ज माफ करे।



” जब उत्तर प्रदेश में किसानों के कर्जे माफ हो सकते हैं तो हमारे क्यों नहीं। राज्य के 90 फीसद किसान कर्जे तले दबे हैं। अगर इन्हें जल्द राहत नहीं दी गई तो हम सड़कों पर उतर कर अपना हक मांगेंगे। – अजीत सिंह हाबड़ी, राष्ट्रीय सलाहकार, भाकियू।



‘किसान आत्महत्या करने को मजबूर’
” प्रदेश में किसानों की हालत बेहद खराब है। सरकार द्वारा किए गए वादे पूरे न करने से किसान निरंतर कर्जे में डूब कर आत्महत्या करने को मजबूर हैं। ऐसे में हरियाणा की भाजपा सरकार को प्रदेश के किसानों व कमेरे वर्ग को कर्जे के बोझ से उबारने के लिए तुरंत प्रभाव से उनके तमाम कर्जे माफ करने चाहिए। – अभय सिंह चौटाला, विपक्ष के नेता।



‘सरकार ने पूरा नहीं किया वादा’
” उत्तर प्रदेश में किसानों की कर्ज माफी का कदम अच्छा है पर अर्धसत्य है। यह ऋण माफी ऊंट के मुंह में जीरे के समान है। भाजपा सरकार ने सारा कर्ज माफ कर किसानों को उबारने का वादा पूरा नहीं किया। – रणदीप सुरजेवाला, राष्ट्रीय प्रवक्ता, कांग्रेस।



‘ हरियाणा के किसानों से भेदभाव क्यों’
” उत्तर प्रदेश की तरह हरियाणा में भी भाजपा की सरकार है। फिर यहां के किसानों से भेदभाव क्यों। प्रदेश सरकार किसानों के साथ भेदभाव की नीति को खत्म कर तुरंत उनके सभी कर्जे माफ करे। -अशोक तंवर, प्रदेश अध्यक्ष, कांग्रेस।