रोनू मजूमदार की बांसुरी ने तो कही पद्मश्री तृप्ति की मधुर कंठ ने दर्शको को किया मंत्रमुग्ध

कोल्कता : ब्रिटिश-आइरिश मूल्य की निवासी भारतीय स्वतंत्रता की कट्टर समर्थक स्वामी विवेकानंद की शिष्या सिस्टर निवेदिता की 150 वां जन्ममहोत्सव के उपलक्ष में आजादी की लड़ाई में विशेष महत्व रखने वाले कोल्कता शहर में स्थित बीरेंद्र मंच में श्री श्री रामकृष्ण विवेकानंद भाभचक्र समिति साथ बेहाला सृजन संस्थान द्वारा आयोजित नारीत्व शक्ति सम्मान “नारी” महोत्सव में मेवात घराना की धरोहर कहलाने वाली पद्मश्री तृप्ति मुखर्जी ने ताल सम्राट के नाम से पहचाने जाने वाले पंडित आदित्य नारायण बैनर्जी के तबला की थाप के साथ विलंवित एक ताल का राग बिलासखानी तोड़ी के साथ ही द्रुत तीन ताल, राग होरी सारंग में हवेली तो वही राग भैरवी में भजन गाकर दर्शको को मंत्रमुग्ध कर दिया.

समाचार आगे जारी है…..

जहाँ अनिर्बन चक्रवर्ती ने हारमोनियम पर साथ दिया. अपनी कला के नाम से विश्वभर में पहचाने जाने वाले फ्लूटिस्ट पंडित रोनू मंजूमदार ने जब मंच संभाल तो मानो जैसे दर्शक संगीत की दुनिया में खो कर ही रह गए. बनारस घराना से आये पंडित रितेश और रजनीश मिश्रा ने अपने पिता पद्मभूषण पंडित राजन मिश्रा की स्टाइल में गाये. नारीशक्ति को सलाम करते हुए गायिका विदुषी कनकना बैनर्जी तबले पर संगत सुमित सिंगराय, गायक पंडित संजोय बैनर्जी के साथ फेमस फीमेल तबला वादक रिम्पा शिवा ने संगत किया, वही आरती मजूमदार (वोकल), सुजाता (फ्लूट), पामेला बैनर्जी (पखावज), निबेदित बैनर्जी (सितार) ने नारी शक्ति के नाम से अद्धभुत प्रस्तुति दिया. तो वही कत्थक डांसर मैस्ट्रो तापस देबनाथ ने अपने तबला सहयोगी बिश्वजीत पॉल के साथ दर्शको को दांतो तले ऊँगली चबाने पर मजबूर कर दिया.

समाचार आगे जारी है…..

ज्ञातव्य रहे की नारीत्व सम्मान में तीसरे वर्ष भी निरंतर सेवारत अनिर्बन चक्रवर्ती द्वारा खूबसूरत शास्त्रीय कलामंच का आयोजन किया गया. आयोजक समिति द्वारा राष्ट्रीय पत्रकार संगठन आल मीडिया जर्नलिस्ट सोशल वेलफेयर एसोसिएशन (म्यूजिक सेल) का आयोजन में विशेष सहयोग प्रदान करने के लिए आभार माना.